Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Aug 2022 · 1 min read

ज़िन्दगी

जिंदगी जीना आसान नहीं होता,
हर बस्ते में स्कूल का सामान नही होता।
वैसे तो एक उम्र तक बच्चे होते है सभी,
पर एक उम्र के बाद कोई बच्चा नही होता।

बचपन मे बड़े होने पर पता चला,
बड़ा होना बचपन सा आसान नही होता,
उम्मीद, जिम्मेदारी, परिवार, और बहुत,
ये सब देखना आसान नही होता।

बचपन का रूठना – मनाना तो अच्छा था,
अब तो रूठना जैसे गुनाह है,
खुद ही रूठ कर मान जाओ,
एक उम्र के बाद कोई नहीं मनाता।

इन बिंदुओ का क्या मतलब है? अब समझे,
एक आये तो रुकना, और ज्यादा तो चलना,
रुक जाना या चलते रहना, हा हा हा हा
कुछ भी आसान नहीं होता।

3 Likes · 250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम ख़फ़ा हो
हम ख़फ़ा हो
Dr fauzia Naseem shad
వీరుల స్వాత్యంత్ర అమృత మహోత్సవం
వీరుల స్వాత్యంత్ర అమృత మహోత్సవం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
घुंटन जीवन का🙏
घुंटन जीवन का🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
विद्याधन
विद्याधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जब पीड़ा से मन फटता है
जब पीड़ा से मन फटता है
पूर्वार्थ
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
राह तक रहे हैं नयना
राह तक रहे हैं नयना
Ashwani Kumar Jaiswal
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
"घर बनाने के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
🕉️🌸आम का पेड़🌸🕉️
🕉️🌸आम का पेड़🌸🕉️
Radhakishan R. Mundhra
बादलों की उदासी
बादलों की उदासी
Shweta Soni
चाय और राय,
चाय और राय,
शेखर सिंह
तुम मेरा साथ दो
तुम मेरा साथ दो
Surya Barman
पूर्वोत्तर के भूले-बिसरे चित्र (समीक्षा)
पूर्वोत्तर के भूले-बिसरे चित्र (समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अनुभूति
अनुभूति
Pratibha Pandey
चाय और सिगरेट
चाय और सिगरेट
आकाश महेशपुरी
दूसरों के हितों को मारकर, कुछ अच्छा बनने  में कामयाब जरूर हो
दूसरों के हितों को मारकर, कुछ अच्छा बनने में कामयाब जरूर हो
Umender kumar
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
Anil chobisa
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
दो अनजाने मिलते हैं, संग-संग मिलकर चलते हैं
दो अनजाने मिलते हैं, संग-संग मिलकर चलते हैं
Rituraj shivem verma
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
gurudeenverma198
2599.पूर्णिका
2599.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*नियति*
*नियति*
Harminder Kaur
दोस्तों अगर किसी का दर्द देखकर आपकी आत्मा तिलमिला रही है, तो
दोस्तों अगर किसी का दर्द देखकर आपकी आत्मा तिलमिला रही है, तो
Sunil Maheshwari
मुश्किलों से हरगिज़ ना घबराना *श
मुश्किलों से हरगिज़ ना घबराना *श
Neeraj Agarwal
बुंदेली दोहा- चिलकत
बुंदेली दोहा- चिलकत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सच्चाई की कीमत
सच्चाई की कीमत
Dr Parveen Thakur
राह दिखा दो मेरे भगवन
राह दिखा दो मेरे भगवन
Buddha Prakash
*समृद्ध भारत बनायें*
*समृद्ध भारत बनायें*
Poonam Matia
Loading...