Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2023 · 1 min read

ज़िन्दगी मैं चाल तेरी अब समझती जा रही हूँ

ज़िन्दगी मैं चाल तेरी अब समझती जा रही हूँ
नफरतों के घूँट पीकर दर्द को मैं गा रही हूँ

देखने में तू हसीं पर असलियत तेरी अलग है
आज तक तुझसे बड़ा देखा न मैंने कोई ठग है
एक पल भी चैन से रहने नहीं देती किसी को
हर घड़ी ही रहना पड़ता ज़िन्दगी तुझसे सजग है
मैं बहुत खो भी रही हूँ तुझसे यदि कुछ पा रही हूँ
ज़िन्दगी अब चाल तेरी मैं समझती जा रही हूँ

ख़्वाब दिखलाकर उसे तू एक क्षण में तोड़ देती
जिस तरफ जाना तुझे है मुख उधर ही मोड़ देती
साथ देती तो मेरा है पर नहीं विश्वास तेरा
गैर बनकर तू मुझे अक्सर भँवर में छोड़ देती
मैं सँभल पायी न अब तक ठोकरें ही खा रही हूँ
ज़िन्दगी अब चाल तेरी मैं समझती जा रही हूँ

सिर्फ़ तेरी ही चली है और आखिर तक चलेगी
वक़्त का बस हाथ थामे तू मुझे छलती रहेगी
हर इशारे पर ही तेरे नाचना मुझको पड़ेगा
उस तरफ चलना ही होगा जिस तरफ भी तू कहेगी
बात ये दिन रात अपने दिल को मैं समझा रही हूँ
ज़िन्दगी अब चाल तेरी मैं समझती जा रही हूँ
16-01-2023

Language: Hindi
3 Likes · 3 Comments · 1103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
रंग कैसे कैसे
रंग कैसे कैसे
Preeti Sharma Aseem
तिरंगा
तिरंगा
Neeraj Agarwal
कुछ किताबें और
कुछ किताबें और
Shweta Soni
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
Shravan singh
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
surenderpal vaidya
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*प्रणय प्रभात*
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
कवि दीपक बवेजा
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Neelam Sharma
कुत्तों की बारात (हास्य व्यंग)
कुत्तों की बारात (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
त्याग
त्याग
Punam Pande
राम है अमोघ शक्ति
राम है अमोघ शक्ति
Kaushal Kumar Pandey आस
*मरण सुनिश्चित सच है सबका, कैसा शोक मनाना (गीत)*
*मरण सुनिश्चित सच है सबका, कैसा शोक मनाना (गीत)*
Ravi Prakash
माँ भारती वंदन
माँ भारती वंदन
Kanchan Khanna
जहाँ सूर्य की किरण हो वहीं प्रकाश होता है,
जहाँ सूर्य की किरण हो वहीं प्रकाश होता है,
Ranjeet kumar patre
*मर्यादा*
*मर्यादा*
Harminder Kaur
माँ
माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
दिल से ….
दिल से ….
Rekha Drolia
*हम पर अत्याचार क्यों?*
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
विमला महरिया मौज
आने घर से हार गया
आने घर से हार गया
Suryakant Dwivedi
प्रश्न
प्रश्न
Dr MusafiR BaithA
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
संपूर्णता किसी के मृत होने का प्रमाण है,
Pramila sultan
*शहर की जिंदगी*
*शहर की जिंदगी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भूत अउर सोखा
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
लक्ष्मी सिंह
"Sometimes happiness and peace come when you lose something.
पूर्वार्थ
कि हम मजदूर है
कि हम मजदूर है
gurudeenverma198
मात्र क्षणिक आनन्द को,
मात्र क्षणिक आनन्द को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हमारा दिल।
हमारा दिल।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...