Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

ज़िन्दगी चल नए सफर पर।

ज़िन्दगी चल नए सफर पर चलते है।
फिर से किसी के हम सफर बनते है।।1।।

इश्क तो करेंगे पर दिल ना अब देंगें।
इस बार मुहब्बत से बेखबर रहते है।।2।।

कोशिश करेंगे कोई ये दिल ना तोड़े।
इस बार खुदपर हम नज़र रखते है।।3।।

कहीं पे कुछ तो आबाद होगा हमसे।
खाली पड़ी बस्ती के बशर बनते है।।4।।

गम मिले या खुशी रुकना नही कहीं।
किसी बहते दरिया की लहर बनते है।।5।।

पानी की बूंद है अभी सूखे तो नहीं है।
किसी नदी से मिलके अविरल बहते है।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
sushil sarna
तुम्हीं तुम हो.......!
तुम्हीं तुम हो.......!
Awadhesh Kumar Singh
"अहा जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
If you have  praising people around you it means you are lac
If you have praising people around you it means you are lac
Ankita Patel
Loving someone you don’t see everyday is not a bad thing. It
Loving someone you don’t see everyday is not a bad thing. It
पूर्वार्थ
धार्मिकता और सांप्रदायिकता / MUSAFIR BAITHA
धार्मिकता और सांप्रदायिकता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मुरली कि धुन
मुरली कि धुन
Anil chobisa
जो थक बैठते नहीं है राहों में
जो थक बैठते नहीं है राहों में
REVATI RAMAN PANDEY
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ Rãthí
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
Shweta Soni
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
Minakshi
सच्ची बकरीद
सच्ची बकरीद
Satish Srijan
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
" मेरे जीवन का राज है राज "
Dr Meenu Poonia
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
Vishal babu (vishu)
ঐটা সত্য
ঐটা সত্য
Otteri Selvakumar
जल प्रदूषित थल प्रदूषित वायु के दूषित चरण ( मुक्तक)
जल प्रदूषित थल प्रदूषित वायु के दूषित चरण ( मुक्तक)
Ravi Prakash
"ऐसा है अपना रिश्ता "
Yogendra Chaturwedi
यहां से वहां फिज़ाओं मे वही अक्स फैले हुए है,
यहां से वहां फिज़ाओं मे वही अक्स फैले हुए है,
manjula chauhan
अनेक मौसम
अनेक मौसम
Seema gupta,Alwar
"रिश्ता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
नकारात्मकता फैलानी हो तो
नकारात्मकता फैलानी हो तो
*Author प्रणय प्रभात*
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
कुछ नहीं बचेगा
कुछ नहीं बचेगा
Akash Agam
भक्ति एक रूप अनेक
भक्ति एक रूप अनेक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जंगल की होली
जंगल की होली
Dr Archana Gupta
किरणों का कोई रंग नहीं होता
किरणों का कोई रंग नहीं होता
Atul "Krishn"
Loading...