Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2022 · 1 min read

ज़िंदा घर

सन्नाटा है घर के अंदर टपक रही है और छत भी,
लगता है तन्हाई में मैं ये घर भी छुप छुप रोता है।
कभी बबूल भी उगा नहीं था जब हम घर में रहते थे,
अब तन्हाई के डर से आंगन खरपतवारें बोता है।
अभी सलामत नाम का पट्टा घर के बाहर लटका है,
लेकिन ये भी मिट जायेगा वक्त सभी कुछ धोता है।
संदूक पड़ा था जिस कोने में वो अब गिरने वाला है,
जल्दी आ जाओ परदेशी घर अब धीरज खोता है।
अभी बचा है तेल दिये में दियासलाई ले आना,
अपने हो जब साथ तो भाई दुगुना उजियारा होता है।
✍️ दशरथ रांकावत ‘शक्ति’

2 Likes · 2 Comments · 27 Views
You may also like:
क्रांति के अग्रदूत
Shekhar Chandra Mitra
साँझ
Alok Saxena
बगल में छुरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बाल कविता दुश्मन को कभी मित्र न मानो
Ram Krishan Rastogi
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
Rajesh Kumar Arjun
जादुई कलम
Arvina
हम कलियुग के प्राणी हैं/Ham kaliyug ke prani Hain
Shivraj Anand
कोई कसक बाक़ी है
Dr fauzia Naseem shad
किसी दिन
shabina. Naaz
" भयंकर यात्रा "
DrLakshman Jha Parimal
दस्तूर
Rashmi Sanjay
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मंजिल
Kanchan Khanna
हमसफर
लक्ष्मी सिंह
✍️मेरे भीतर का बच्चा
'अशांत' शेखर
मेरे सनम
DESH RAJ
हमनें नज़रें अदब से झुका ली।
Taj Mohammad
सुखद...
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
सार संभार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरे गुरू मेरा अभिमान
Anamika Singh
^^अलविदा ^^
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
अगर तुम प्यार करते हो तो हिम्मत क्यों नहीं करते।...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
शून्य है कमाल !
Buddha Prakash
मेरे गुरु
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किसी का भाई ,किसी का जान
Nishant prakhar
🌺🍀परिश्रम: प्रकृत्या सम्बन्धेन भवति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अकेलापन
AMRESH KUMAR VERMA
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
क्या करें हम भुला नहीं पाते तुम्हे
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...