Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

ज़िंदगी के मर्म

सुख-दु:ख की धूप छांव है
ये ज़िंदगी ,

कभी सूरज सी प्रचंड ,
कभी चंद्रमा सी शांत है ,
ये ज़िंदगी ,

कभी हर्ष का उत्कर्ष ,
कभी कल्पित धारणा का उत्सर्ग है
ये ज़िंदगी ,

कभी अकिंचन निरीह सी,
कभी प्रखर निर्भीक सी है
ये ज़िंदगी ,

कभी अहं बोधग्रस्त ,
कभी आत्म- चिंतनयुक्त सी है
ये ज़िंदगी ,

कभी हताशाओं का सागर ,
कभी आशाओं का आकाश है
ये ज़िंदगी ,

कभी अक्षम पराधीन सी ,
कभी सक्षम स्वाधीन सी है
ये ज़िंदगी ,

कभी द्वंद का चक्र ,
कभी सरल सहज अर्थ लिए सी है
ये ज़िंदगी ,

कभी छद्मवेश लिए ,
कभी यथार्थ परिवेश लिए सी है
ये ज़िंदगी ,

कभी अज्ञान का निष्कर्ष ,
कभी संज्ञान मर्म लिए सी है
ये ज़िदगी।

3 Likes · 51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
*Awakening of dreams*
*Awakening of dreams*
Poonam Matia
कुछ पल साथ में आओ हम तुम बिता लें
कुछ पल साथ में आओ हम तुम बिता लें
Pramila sultan
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
Pratibha Pandey
सब अनहद है
सब अनहद है
Satish Srijan
शीर्षक -  आप और हम जीवन के सच
शीर्षक - आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रंगो ने दिलाई पहचान
रंगो ने दिलाई पहचान
Nasib Sabharwal
पेड़ और चिरैया
पेड़ और चिरैया
Saraswati Bajpai
बूढ़ा बापू
बूढ़ा बापू
Madhu Shah
কেণো তুমি অবহেলনা করো
কেণো তুমি অবহেলনা করো
DrLakshman Jha Parimal
फूल बनकर खुशबू बेखेरो तो कोई बात बने
फूल बनकर खुशबू बेखेरो तो कोई बात बने
इंजी. संजय श्रीवास्तव
चुप रहना भी तो एक हल है।
चुप रहना भी तो एक हल है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ना मुमकिन
ना मुमकिन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धरा प्रकृति माता का रूप
धरा प्रकृति माता का रूप
Buddha Prakash
*तेरा इंतज़ार*
*तेरा इंतज़ार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
Phool gufran
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
Neelam Sharma
निभाना साथ प्रियतम रे (विधाता छन्द)
निभाना साथ प्रियतम रे (विधाता छन्द)
नाथ सोनांचली
ये
ये "परवाह" शब्द वो संजीवनी बूटी है
शेखर सिंह
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं तो निकला था,
मैं तो निकला था,
Dr. Man Mohan Krishna
Jay prakash
Jay prakash
Jay Dewangan
3322.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3322.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
किराये की कोख
किराये की कोख
Dr. Kishan tandon kranti
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*आशाओं के दीप*
*आशाओं के दीप*
Harminder Kaur
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*प्रणय प्रभात*
प्रेम - एक लेख
प्रेम - एक लेख
बदनाम बनारसी
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...