Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2023 · 1 min read

ज़ख्म सिल दो मेरा

एक ज़ख्म सिल दो मेरा, नासूर बन गया है।
करके वादा न निभाना, दस्तूर बन गया है।

किसी के दिल का दर्द,समझता है यहां कौन
रातों को उठ उठ कर रोना, फितूर बन गया है।

बेवफाई के किस्से, दुनिया से छिपाये हम कैसे
इश्क़ मेरे का एक एक पल, मशहूर बन गया है।

हर शख्स सजायाफ्ता,हर शख्स कैद में है
गुनाह न करना भी यहां,कसूर बन गया है।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
महफिले लूट गया शोर शराबे के बगैर। कर गया सबको ही माइल वह तमाशे के बगैर। ❤️
महफिले लूट गया शोर शराबे के बगैर। कर गया सबको ही माइल वह तमाशे के बगैर। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मन करता है
मन करता है
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
शेखर सिंह
(10) मैं महासागर हूँ !
(10) मैं महासागर हूँ !
Kishore Nigam
माँ
माँ
SHAMA PARVEEN
#Motivational quote
#Motivational quote
Jitendra kumar
चाहो न चाहो ये ज़िद है हमारी,
चाहो न चाहो ये ज़िद है हमारी,
Kanchan Alok Malu
भारत
भारत
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*प्रणय प्रभात*
डारा-मिरी
डारा-मिरी
Dr. Kishan tandon kranti
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
संत कबीर
संत कबीर
Indu Singh
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
क्या सितारों को तका है - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
आगे निकल जाना
आगे निकल जाना
surenderpal vaidya
तुम मुझे यूँ ही याद रखना
तुम मुझे यूँ ही याद रखना
Bhupendra Rawat
वो हक़ीक़त में मौहब्बत का हुनर रखते हैं।
वो हक़ीक़त में मौहब्बत का हुनर रखते हैं।
Phool gufran
*मेरे साथ तुम हो*
*मेरे साथ तुम हो*
Shashi kala vyas
बुरा नहीं देखेंगे
बुरा नहीं देखेंगे
Sonam Puneet Dubey
#डॉ अरूण कुमार शास्त्री
#डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
माँ का अछोर आंचल / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मैं मोहब्बत हूं
मैं मोहब्बत हूं
Ritu Asooja
"जिंदगी"
Yogendra Chaturwedi
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
3016.*पूर्णिका*
3016.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आ बैठ मेरे पास मन
आ बैठ मेरे पास मन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरी यादें
तेरी यादें
Neeraj Agarwal
निशाना
निशाना
अखिलेश 'अखिल'
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*होली: कुछ दोहे*
*होली: कुछ दोहे*
Ravi Prakash
Loading...