Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2016 · 1 min read

जहाँ में चाँद सा ऊँचा नहीं है

जहाँ में चाँद सा ऊँचा नहीं है
सदा वो आसमाँ उजला नहीं है

चला जाये सदा को छोड़ दुनियाँ
जमीं ये घर कभी तेरा नहीं है

कमाया पाप तूने जिन्दगी में
यहाँ से जो चला नाता नहीं है

हसीं हसरत दिखायी आज तूने
जिसे देखा जिया खोया नहीं है

गयी जो दूर इतना तू यहाँ से
बिना तेरे रहा जाता नहीं है

मुझे जो याद तेरी क्यों सताती
गमों की थाह से निकला नहीं है

मुहब्बत धर्म मेरे इस जहाँ का
किसी की जान का सौदा नहीं है

मिला वो जब बहुत अरसे बाद तब
बिछुड़ कर के हमें भूला नहीं है

मिलेगी राह परवाने कहाँ तक
अभी कोई उसे वादा नहीं है

डॉ मधु त्रिवेदी

69 Likes · 269 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
ਸਾਡੀ ਪ੍ਰੇਮ ਕਹਾਣੀ
ਸਾਡੀ ਪ੍ਰੇਮ ਕਹਾਣੀ
Surinder blackpen
"रामगढ़ की रानी अवंतीबाई लोधी"
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
नाथू राम जरा बतलाओ
नाथू राम जरा बतलाओ
Satish Srijan
Ready for argument
Ready for argument
AJAY AMITABH SUMAN
श्री हरि भक्त ध्रुव
श्री हरि भक्त ध्रुव
जगदीश लववंशी
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
Dr. Kishan Karigar
प्रेम के रिश्ते
प्रेम के रिश्ते
Rashmi Sanjay
पश्चाताप
पश्चाताप
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जरुरी नहीं खोखले लफ्ज़ो से सच साबित हो
जरुरी नहीं खोखले लफ्ज़ो से सच साबित हो
'अशांत' शेखर
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
“ज़िंदगी अगर किताब होती”
पंकज कुमार कर्ण
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
शहर में बिखरी है सनसनी सी ,
Manju sagar
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
Johnny Ahmed 'क़ैस'
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
Rambali Mishra
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
Pramila sultan
उदयमान सूरज साक्षी है ,
उदयमान सूरज साक्षी है ,
Vivek Mishra
मैं पीपल का पेड़
मैं पीपल का पेड़
VINOD CHAUHAN
बच्चों को भी भगवान का ही स्वरूप माना जाता है !
बच्चों को भी भगवान का ही स्वरूप माना जाता है !
पीयूष धामी
अपने हाथ,
अपने हाथ,
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
चँचल हिरनी
चँचल हिरनी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नन्हें बच्चे को जब देखा
नन्हें बच्चे को जब देखा
Sushmita Singh
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
छलनी- छलनी जिसका सीना
छलनी- छलनी जिसका सीना
लक्ष्मी सिंह
रोजाना आता नई , खबरें ले अखबार (कुंडलिया)
रोजाना आता नई , खबरें ले अखबार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
जय श्री कृष्ण
जय श्री कृष्ण
Bodhisatva kastooriya
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सफर सफर की बात है ।
सफर सफर की बात है ।
Yogendra Chaturwedi
प्रसाद का पूरा अर्थ
प्रसाद का पूरा अर्थ
Radhakishan R. Mundhra
तुम मुझे भुला ना पाओगे
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
Loading...