Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

जवाब आ गया माँ !

जवाब आ गया माँ !
****************************************************************************
क्यों कोई जवाब नहीं आ रहा बेटी ? पूरे तीन महीने हो गए तुम्हारे पिताजी को शहर के उस अस्पताल में भर्ती हुए । न जाने कैसा इलाज चल रहा है ! न जाने कैसी तबियत होगी उनकी ! न जाने कैसे रह रहा होगा तुम्हारा भाई अपने बीमार पिताजी के साथ तीमारदार बनकर !

हे भगवान ! कौन है हमारा इस दुनिया में तेरे सिवा ! तू ही कुछ चमत्कार कर ! कुछ तो कुशलक्षेम आये ! कोई तो जवाब आये ! – कहते कहते वह भगवान के चरणों में गिर पड़ी थी ।
तभी दरवाजे पर दस्तक सुनकर उसकी बेटी दरवाजे तक गयी और कुछ देर में वापस आ गयी ।

– जवाब आ गया माँ ! भैया वापस आ रहे हैं पिताजी को लेकर ! हमें अब पिताजी की सेवा करनी है ! दिल से ! जी-जान से !

– भगवान ने तो नहीं दिया माँ ! पर जवाब दे दिया है सारे डाक्टरों ने ! सारे सर्जनों ने !
…… इंतज़ार और भी भारी लगने लगा था ।

*****************************************************************************
हरीश चन्द्र लोहुमी, लखनऊ (उ॰प्र॰)
*****************************************************************************

3 Comments · 213 Views
You may also like:
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
व्यक्तिवाद की अजीब बीमारी...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
मेरी बेटी
Anamika Singh
पिता है मेरे रगो के अंदर।
Taj Mohammad
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
मत बना किसी को अपनी कमजोरी
Krishan Singh
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
बादल को पाती लिखी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भूल जा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
दुर्घटना का दंश
DESH RAJ
पंचशील गीत
Buddha Prakash
सच एक दिन
gurudeenverma198
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐💐धड़कता दिल कहे सब कुछ तुम्हारी याद आती है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️हम भारतवासी✍️
"अशांत" शेखर
भारत की जाति व्यवस्था
AMRESH KUMAR VERMA
करते रहिये काम
सूर्यकांत द्विवेदी
जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
Loading...