Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2024 · 1 min read

जवानी

#दिनांक:-28/2/2024
#शीर्षक:- जवानी।

शोख चंचलता जिसकी कहानी,
दहकता बदन नाम है जवानी।
नित नये हलचल समेटकर,
बनता कोई दिवाना कोई दिवानी।

मन के भाव उर्वरक बनकर,
कहीं सख्त कहीं तरल बनकर,
छुई-मुई सी अनमना तन और मन,
जल्दबाजी नवीन उम्मीद की रवानी।

सूरत मर्म बर्फ पिघलता शबाब,
कत्थई आँखें पिला दें बोतल भर शराब।
बैचेनियाँ चैन का रास्ता भूल चुकीं,
बनते बदन का नक्सा कर रहा मनमानी।

समय का मय नहीं बस भूल होने लगा है,
यौवनावस्था अपने चरम पर पहुंचने लगा है।
नींद ना आने की जिद कर बैठी,
होश कहीं दूर नजरबंद हो रोती।
ठिकाना खोजता दर-ब-दर दिल अपना,
भविष्य नहीं पर बुनता अनूठा सपना।
सर से पांव तक जोशीला उत्साहित मस्ताना,
कोहिनूर कोहराम मचाता गम होती सयानी,
आनंद का छलकता जाम सुधबुध हो गई बेगानी,
चमकती चितवन रिझाती गुलबदन जवानी ।
(स्वरचित)
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
1 Like · 48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
Kshma Urmila
💐प्रेम कौतुक-190💐
💐प्रेम कौतुक-190💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कहां से कहां आ गए हम..!
कहां से कहां आ गए हम..!
Srishty Bansal
मुसलसल ईमान रख
मुसलसल ईमान रख
Bodhisatva kastooriya
दिल से करो पुकार
दिल से करो पुकार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
हास्य-व्यंग्य सम्राट परसाई
हास्य-व्यंग्य सम्राट परसाई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ सरस्वती वंदना ■
■ सरस्वती वंदना ■
*Author प्रणय प्रभात*
कह दो ना उस मौत से अपने घर चली जाये,
कह दो ना उस मौत से अपने घर चली जाये,
Sarita Pandey
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
कृष्णकांत गुर्जर
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
shabina. Naaz
बहुत यत्नों से हम
बहुत यत्नों से हम
DrLakshman Jha Parimal
जीवन का सम्बल
जीवन का सम्बल
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
माँ
माँ
Kavita Chouhan
2484.पूर्णिका
2484.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
कई रंग देखे हैं, कई मंजर देखे हैं
कई रंग देखे हैं, कई मंजर देखे हैं
कवि दीपक बवेजा
सरहद पर गिरवीं है
सरहद पर गिरवीं है
Satish Srijan
क़ाबिल नहीं जो उनपे लुटाया न कीजिए
क़ाबिल नहीं जो उनपे लुटाया न कीजिए
Shweta Soni
मूर्ख जनता-धूर्त सरकार
मूर्ख जनता-धूर्त सरकार
Shekhar Chandra Mitra
रूख हवाओं का
रूख हवाओं का
Dr fauzia Naseem shad
यादों का थैला लेकर चले है
यादों का थैला लेकर चले है
Harminder Kaur
अहंकार
अहंकार
लक्ष्मी सिंह
वीर सैनिक (बाल कविता)
वीर सैनिक (बाल कविता)
Ravi Prakash
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
Anand Kumar
पिता
पिता
Harendra Kumar
"गुमान"
Dr. Kishan tandon kranti
सब छोड़कर अपने दिल की हिफाजत हम भी कर सकते है,
सब छोड़कर अपने दिल की हिफाजत हम भी कर सकते है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...