Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2016 · 1 min read

धरा निर्जल
सूखा गंगा जल
प्यासा मन
दुःख भरा कल!!

Language: Hindi
Tag: कविता
290 Views
You may also like:
मकर पर्व स्नान दान का
Dr. Sunita Singh
दिल और दिमाग़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आता है याद सबको ही बरसात में छाता।
सत्य कुमार प्रेमी
हर किसी के मुकद्दर में।
Taj Mohammad
खास लम्हें
निकेश कुमार ठाकुर
553 बां प़काश पर्व गुरु नानक देव जी का जन्म...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल- राना सवाल रखता है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️वो अच्छे से समझता है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कुछ तो बोल
Harshvardhan "आवारा"
कविता –सच्चाई से मुकर न जाना
रकमिश सुल्तानपुरी
चाची बुढ़िया अम्मा (बाल कविता)
Ravi Prakash
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
" लिखने की कला "
DrLakshman Jha Parimal
हिचकियों का रहस्य
Ram Krishan Rastogi
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
बौद्ध सम्राट रावण
Shekhar Chandra Mitra
Sand Stones
Buddha Prakash
गुरु तुम क्या हो यार !
jaswant Lakhara
तुम दोषी हो?
Dr. Girish Chandra Agarwal
✍️ताकत और डर✍️
'अशांत' शेखर
No one plans to fall in Love
Shivkumar Bilagrami
"अबकी जाड़ा कबले जाई "
Rajkumar Bhatt
निःशक्त, गरीब और यतीम को
gurudeenverma198
आशियाना मेरा ढह गया
Seema 'Tu hai na'
हम फिर वही थे
shabina. Naaz
अंतर्राष्ट्रीय अभियंता दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
उम्मीद नही छोड़ते है ये बच्चे
Anamika Singh
अंदर से टूट कर भी
Dr fauzia Naseem shad
तूने किया हलाल
Jatashankar Prajapati
Loading...