Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2023 · 1 min read

जलन इंसान को ऐसे खा जाती है

जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जेसे लकड़ियों को आग………shabinaZ

270 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
Bramhastra sahityapedia
पुलवामा शहीद दिवस
पुलवामा शहीद दिवस
Ram Krishan Rastogi
कोई दरिया से गहरा है
कोई दरिया से गहरा है
कवि दीपक बवेजा
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
Rj Anand Prajapati
Jay shri ram
Jay shri ram
Saifganj_shorts_me
।।बचपन के दिन ।।
।।बचपन के दिन ।।
Shashi kala vyas
हे ईश्वर
हे ईश्वर
Ashwani Kumar Jaiswal
मिसाल
मिसाल
Kanchan Khanna
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Forget and Forgive Solve Many Problems
Forget and Forgive Solve Many Problems
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*आओ पाने को टिकट ,बंधु लगा दो जान : हास्य कुंडलिया*
*आओ पाने को टिकट ,बंधु लगा दो जान : हास्य कुंडलिया*
Ravi Prakash
फ़र्ज़ पर अधिकार तेरा,
फ़र्ज़ पर अधिकार तेरा,
Satish Srijan
प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन
प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन
Er. Sanjay Shrivastava
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
Stuti tiwari
"परिवर्तन के कारक"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
Dr. Man Mohan Krishna
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
खुश रहने वाले गांव और गरीबी में खुश रह लेते हैं दुःख का रोना
Ranjeet kumar patre
फादर्स डे
फादर्स डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2796. *पूर्णिका*
2796. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“ बधाई आ शुभकामना “
“ बधाई आ शुभकामना “
DrLakshman Jha Parimal
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*Author प्रणय प्रभात*
अवधी स्वागत गीत
अवधी स्वागत गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
मकसद कि दोस्ती
मकसद कि दोस्ती
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
फितरत
फितरत
Dr fauzia Naseem shad
मेरी नन्ही परी।
मेरी नन्ही परी।
लक्ष्मी सिंह
पागल मन कहां सुख पाय ?
पागल मन कहां सुख पाय ?
goutam shaw
बदतमीज
बदतमीज
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...