Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2022 · 1 min read

कविता: जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा

कविता- जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
*******************************

तपती धूप तेज बारिश, हर मौसम से मैं लड़ा।
आंख में आंसू दिल मे पीड़ा, लेकर जर्जर भवन खड़ा।।
आंख में आंसू……….

बात है मेरे स्वाभिमान की, क्षति हो रही है ज्ञान की।
मैं प्रयोगशाला हूँ विद्या की, फूट रहा है विद्या का घड़ा।।
आंख में आंसू……….

रो – रोकर सुनाऊँ कहानी, छत से टपके बरसाती पानी।
दीवार से गिरती मोती पपड़ी, कूड़े का अंबार चढ़ा।।
आंख में आंसू……….

कभी थे बच्चे मुझमें पढ़ते, रबर पेंसिल के लिए लड़ते।
शिक्षक बंधु पाठ पढ़ाते, अब दरवाजे पर ताला जड़ा।।
आंख में आंसू……….

बच्चे शिक्षक मुझसे दूर, लगता बेबस और मजबूर।
उड़ गए रंग मेरे सारे, एक कोने में मैं पड़ा।।
आंख में आंसू……….

समाज का मैं अंग निराला, कौन है मेरी सुनने वाला।
भूल गया वह भी अब तो, जो कभी था मुझमें पढ़ा।।
आंख में आंसू……….

हाथ जोड़कर करूं निवेदन, बनवा दीजिए नवीन भवन।
सजे दीवारें चित्र- तस्वीरों से, और छाया देवे पेड़ बड़ा।।
आंख में आंसू……….

तपती धूप तेज बारिश, हर मौसम से मैं लड़ा।
आंख में आंसू दिल मे पीड़ा, लेकर जर्जर भवन खड़ा।।

*******************📚*******************

स्वरचित कविता 📝
✍️रचनाकार:
राजेश कुमार अर्जुन

7 Likes · 2 Comments · 231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#सामयिक_आलेख
#सामयिक_आलेख
*Author प्रणय प्रभात*
संगत
संगत
Sandeep Pande
मोहब्बत तो आज भी
मोहब्बत तो आज भी
हिमांशु Kulshrestha
चंद अश'आर ( मुस्कुराता हिज्र )
चंद अश'आर ( मुस्कुराता हिज्र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"दास्तान"
Dr. Kishan tandon kranti
अमरत्व
अमरत्व
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
निरंतर खूब चलना है
निरंतर खूब चलना है
surenderpal vaidya
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
मुसलसल ईमान-
मुसलसल ईमान-
Bodhisatva kastooriya
इश्क़ में ना जाने क्या क्या शौक़ पलता है,
इश्क़ में ना जाने क्या क्या शौक़ पलता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पत्र
पत्र
लक्ष्मी सिंह
.
.
शेखर सिंह
मायने रखता है
मायने रखता है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,
विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,
Trishika S Dhara
जाति-पाति देखे नहीं,
जाति-पाति देखे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐसा लगता है कि शोक सभा में, नकली आँसू बहा रहे हैं
ऐसा लगता है कि शोक सभा में, नकली आँसू बहा रहे हैं
Shweta Soni
ये रंगा रंग ये कोतुहल                           विक्रम कु० स
ये रंगा रंग ये कोतुहल विक्रम कु० स
Vikram soni
অরাজক সহিংসতা
অরাজক সহিংসতা
Otteri Selvakumar
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
Neeraj Agarwal
सच तो यह है
सच तो यह है
Dr fauzia Naseem shad
नया साल
नया साल
विजय कुमार अग्रवाल
कहने को आज है एक मई,
कहने को आज है एक मई,
Satish Srijan
*प्यार का रिश्ता*
*प्यार का रिश्ता*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हर जगह मुहब्बत
हर जगह मुहब्बत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पहचान तो सबसे है हमारी,
पहचान तो सबसे है हमारी,
पूर्वार्थ
नारी शिक्षा से कांपता धर्म
नारी शिक्षा से कांपता धर्म
Shekhar Chandra Mitra
जाने कहा गये वो लोग
जाने कहा गये वो लोग
Abasaheb Sarjerao Mhaske
Loading...