Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 1 min read

जरुरी नहीं कि

जरुरी नहीं कि
हर बार
उलझी बात को
सुलझा भी लिया जाए
असुलझा पहलु भी
नजर अंदाज किया जाए।
संगीता बैनीवाल

1 Like · 80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍🏻 ■ रसमय दोहे...
✍🏻 ■ रसमय दोहे...
*Author प्रणय प्रभात*
सरहद पर गिरवीं है
सरहद पर गिरवीं है
Satish Srijan
है जरूरी हो रहे
है जरूरी हो रहे
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
पैसा बोलता है
पैसा बोलता है
Mukesh Kumar Sonkar
गरीबी की उन दिनों में ,
गरीबी की उन दिनों में ,
Yogendra Chaturwedi
क्या कहेंगे लोग
क्या कहेंगे लोग
Surinder blackpen
"समय से बड़ा जादूगर दूसरा कोई नहीं,
Tarun Singh Pawar
शायर तो नहीं
शायर तो नहीं
Bodhisatva kastooriya
हर पल
हर पल
Neelam Sharma
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
Suryakant Dwivedi
*दिल में  बसाई तस्वीर है*
*दिल में बसाई तस्वीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरी शायरी की छांव में
मेरी शायरी की छांव में
शेखर सिंह
बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला
बुढ़ापे में हड्डियाँ सूखा पतला
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
2774. *पूर्णिका*
2774. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
Tera wajud mujhme jinda hai,
Tera wajud mujhme jinda hai,
Sakshi Tripathi
सूझ बूझ
सूझ बूझ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐प्रेम कौतुक-503💐
💐प्रेम कौतुक-503💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां की शरण
मां की शरण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हिन्दी दोहा बिषय-जगत
हिन्दी दोहा बिषय-जगत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"चिराग"
Ekta chitrangini
मस्ती का त्योहार है,
मस्ती का त्योहार है,
sushil sarna
बदल गया जमाना🌏🙅🌐
बदल गया जमाना🌏🙅🌐
डॉ० रोहित कौशिक
सपना
सपना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
Anil Mishra Prahari
प्रणय 3
प्रणय 3
Ankita Patel
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भरोसा जिंद‌गी का क्या, न जाने मौत कब आए (हिंदी गजल/गीतिका)
भरोसा जिंद‌गी का क्या, न जाने मौत कब आए (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
मन मंदिर के कोने से
मन मंदिर के कोने से
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...