Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jan 2024 · 1 min read

“जरा सुनो”

“जरा सुनो”
उनके ख्यालों को
थोड़ी सी हवा दे दो,
वो आसमान में
उड़ना चाहता है
परिन्दों की तरह..।

8 Likes · 5 Comments · 102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
" नैना हुए रतनार "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
हिंदी सबसे प्यारा है
हिंदी सबसे प्यारा है
शेख रहमत अली "बस्तवी"
करके देखिए
करके देखिए
Seema gupta,Alwar
खुद पर ही
खुद पर ही
Dr fauzia Naseem shad
*बताओं जरा (मुक्तक)*
*बताओं जरा (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
*मरने का हर मन में डर है (हिंदी गजल)*
*मरने का हर मन में डर है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"होली है आई रे"
Rahul Singh
अनुभूति
अनुभूति
Punam Pande
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
क्रोधी सदा भूत में जीता
क्रोधी सदा भूत में जीता
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*हो न लोकतंत्र की हार*
*हो न लोकतंत्र की हार*
Poonam Matia
मज़बूत होने में
मज़बूत होने में
Ranjeet kumar patre
रिहाई - ग़ज़ल
रिहाई - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
💐प्रेम कौतुक-394💐
💐प्रेम कौतुक-394💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
Rj Anand Prajapati
बड़ी सी इस दुनिया में
बड़ी सी इस दुनिया में
पूर्वार्थ
भाव - श्रृँखला
भाव - श्रृँखला
Shyam Sundar Subramanian
Is ret bhari tufano me
Is ret bhari tufano me
Sakshi Tripathi
महफ़िल जो आए
महफ़िल जो आए
हिमांशु Kulshrestha
"परोपकार"
Dr. Kishan tandon kranti
Touch the Earth,
Touch the Earth,
Dhriti Mishra
आज हमने सोचा
आज हमने सोचा
shabina. Naaz
■ काम की बात
■ काम की बात
*Author प्रणय प्रभात*
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
सत्य कुमार प्रेमी
এটা আনন্দ
এটা আনন্দ
Otteri Selvakumar
मन के भाव हमारे यदि ये...
मन के भाव हमारे यदि ये...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
*रंग पंचमी*
*रंग पंचमी*
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
تہذیب بھلا بیٹھے
تہذیب بھلا بیٹھے
Ahtesham Ahmad
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
फिक्र (एक सवाल)
फिक्र (एक सवाल)
umesh mehra
Loading...