Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2017 · 1 min read

जय हो मां नर्मदा

रखे न किसी को प्यासी
रेवा मातु अविनासी
बिनती करूँ मै सभी
ध्याईये मां नर्मदा ।

जगतारिणी है यही
दुखहारिणी भी यही
प्रेम से पुकारो सभी
आईये मां नर्मदा ।।

करता यही पुकार
मातु आके तेरे द्वार
भक्तों की बिगडी
बनाईये मां नर्मदा ।

कहता प्रमोद मोद
मुझको प्रदान कर।
कृपा दृष्टि फिर
बर्षाईये मां नर्मदा ।।

?प्रमोद रघुवंशी?
दिनांक:-19-3-2017

Language: Hindi
367 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
आज भी
आज भी
Dr fauzia Naseem shad
न तोड़ दिल ये हमारा सहा न जाएगा
न तोड़ दिल ये हमारा सहा न जाएगा
Dr Archana Gupta
होली गीत
होली गीत
Kanchan Khanna
न शायर हूँ, न ही गायक,
न शायर हूँ, न ही गायक,
Satish Srijan
बन्दे   तेरी   बन्दगी  ,कौन   करेगा   यार ।
बन्दे तेरी बन्दगी ,कौन करेगा यार ।
sushil sarna
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उन्हें नहीं मालूम
उन्हें नहीं मालूम
Brijpal Singh
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
11, मेरा वजूद
11, मेरा वजूद
Dr Shweta sood
ख़ामोशी है चेहरे पर लेकिन
ख़ामोशी है चेहरे पर लेकिन
पूर्वार्थ
नीति अनैतिकता को देखा तो,
नीति अनैतिकता को देखा तो,
Er.Navaneet R Shandily
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
SPK Sachin Lodhi
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
कवि दीपक बवेजा
Radiance
Radiance
Dhriti Mishra
रूप जिसका आयतन है, नेत्र जिसका लोक है
रूप जिसका आयतन है, नेत्र जिसका लोक है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
वेला है गोधूलि की , सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)
वेला है गोधूलि की , सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)
Ravi Prakash
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
manjula chauhan
आईना
आईना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
"सपनों का संसार"
Dr. Kishan tandon kranti
जाग मछेंदर गोरख आया
जाग मछेंदर गोरख आया
Shekhar Chandra Mitra
ज्ञान -दीपक
ज्ञान -दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अभिमान
अभिमान
Shutisha Rajput
अहम जब बढ़ने लगता🙏🙏
अहम जब बढ़ने लगता🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
23/187.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/187.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
वास्ते हक के लिए था फैसला शब्बीर का(सलाम इमाम हुसैन (A.S.)की शान में)
shabina. Naaz
Loading...