Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2017 · 1 min read

जय हिन्द जय भारत

” वन्दे मातरम ”
—————-
तिरंगा ऊंचा रखना
धर्म हमारा है।
तिरंगे की रक्षा करना
कर्म हमारा है।

नमन उन वीरों को
मातृभूमि के खातिर
किया खुद को कुर्बान,
वीरों की गाथा से
सुशोभित इतिहास है जहां
ऐसा देश है मेरा महान।

हम भारतीय हैं
जन,मन,गण
गाते चलो,
राष्ट्रध्वज तिरंगा
फहराते चलो।

आजादी का प्रतीक
ये तिरंगा
गर्व हमारा है,
करो सलाम तिरंगे को
गणतंत्र दिवस
राष्ट्र पर्व हमारा है।

” वंदे मातरम् ”
एक साथ बोलो
इस जहां में
सबसे प्यारा मेरा हिन्दुस्तान,
तुम भी बोलो
हम भी बोलें
मेरे देश की मिट्टी भी बोले
जय जवान – जय किसान।
” जय हिन्द ”
@पूनम झा।कोटा,राजस्थान 26-1-17
###########################

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 365 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*छलने को तैयार है, छलिया यह संसार (कुंडलिया)*
*छलने को तैयार है, छलिया यह संसार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जीवन समर्पित करदो.!
जीवन समर्पित करदो.!
Prabhudayal Raniwal
कुछ दर्द झलकते आँखों में,
कुछ दर्द झलकते आँखों में,
Neelam Sharma
कसास दो उस दर्द का......
कसास दो उस दर्द का......
shabina. Naaz
तमाम लोग किस्मत से
तमाम लोग किस्मत से "चीफ़" होते हैं और फ़ितरत से "चीप।"
*Author प्रणय प्रभात*
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Santosh Khanna (world record holder)
देव विनायक वंदना
देव विनायक वंदना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दर्द ए दिल बयां करु किससे,
दर्द ए दिल बयां करु किससे,
Radha jha
19, स्वतंत्रता दिवस
19, स्वतंत्रता दिवस
Dr Shweta sood
दिल में दबे कुछ एहसास है....
दिल में दबे कुछ एहसास है....
Harminder Kaur
कुंडलिया - रंग
कुंडलिया - रंग
sushil sarna
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
कवि रमेशराज
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
Sukoon
*सुविचरण*
*सुविचरण*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मसला ये नहीं की उसने आज हमसे हिज्र माँगा,
मसला ये नहीं की उसने आज हमसे हिज्र माँगा,
Vishal babu (vishu)
हर एक अवसर से मंजर निकाल लेता है...
हर एक अवसर से मंजर निकाल लेता है...
कवि दीपक बवेजा
Khahisho ke samandar me , gote lagati meri hasti.
Khahisho ke samandar me , gote lagati meri hasti.
Sakshi Tripathi
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
किस कदर है व्याकुल
किस कदर है व्याकुल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
दुःख ले कर क्यो चलते तो ?
Buddha Prakash
बदले नहीं है आज भी लड़के
बदले नहीं है आज भी लड़के
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मैं कौन हूं
मैं कौन हूं
Anup kanheri
बना एक दिन वैद्य का
बना एक दिन वैद्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
और क्या ज़िंदगी का हासिल है
और क्या ज़िंदगी का हासिल है
Shweta Soni
बुढ़ादेव तुम्हें नमो-नमो
बुढ़ादेव तुम्हें नमो-नमो
नेताम आर सी
मंतर मैं पढ़ूॅंगा
मंतर मैं पढ़ूॅंगा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
Loading...