Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2024 · 2 min read

जय संविधान…✊🇮🇳

आज का दिन महान बना था,
जब देश को संविधान मिला था।
देश चलाने के लिए चुनिंदा लोगों ने,
कुछ कानूनों का निर्माण किया था।

जब अंग्रेज़ों का चलता था शासन,
अंधकार में भारत जी रहा था।
खून के आंसू रो रहा था भारत,
गुस्से का ज़हर पी रहा था।

कई अभियान चलाएं भारतीयों ने,
कई लोगों ने प्राण दिया था।
आए-गए कई शूरवीर,
लेकिन अंग्रेज़ों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा था।

देखते ही देखते अंग्रेज़ों का ज़ुल्म बढ़ रहा था,
पानी अब सिर के पार हो गया था।
जब अंग्रेज़ों ने हर भारतवासी को,
ईसाई धर्म अपनाने का आदेश दिया।

भारत में कई धर्म, सबने मना कर दिया।
अंग्रेज़ों को गुस्सा आया, फिर खून खराबा हुआ।

देखते ही देखते जब अंग्रेज़ों का ज़ुल्म कम होता गया,
जब उनका अंत नज़दीक आता गया।
कुछ लोगों ने एक बैठक बुलाई।
नव भारत को नव कानून देने की योजना बनाई।

कई बैठकें, विवाद हुए।
लेकिन कार्य न रुका।
एकता का माहौल था छाया,
2 वर्ष, 11 माह, 17 दिन का समय लगा।

234 पन्नों की इस कानून की किताब का नाम,
“संविधान” रखा गया था।
“संविधान सभा” ने,
इतिहास गढ़ा था।

कानून क्या होंगे, देश कैसे चलाया जाएगा,
सोचने में समय लगा था।
किताब लिखने का काम भारतीय सुलेखक,
प्रेम बिहारी नारायण रायजादा को सौंपा गया था।

26 नवंबर 1949 के दिन,
संविधान को स्वीकार किया गया।
26 जनवरी 1950 यानी आज के दिन,
भारतीय संविधान को लागू किया गया था।

कानून की रक्षा आज भी की जाती है।
जो तोड़ देता है इन्हें, उसे कठोर सजा दी जाती है।

हमें अपने संविधान का सम्मान करना चाहिए।
इसके विरुद्ध कभी नहीं जाना चाहिए।
आइए हम सब इसके लिए शपथ लेते हैं।
जिन्होंने जान लगा दी इसे बनाने में,
उन्हें याद और नमन करते हैं।

संविधान समाधान है, विवाद नहीं।
संविधान सबसे पहले, कोई इसके बाद नहीं।

सबसे प्यारा, संविधान हमारा।
सबसे न्यारा, संविधान हमारा।
सबसे पहले, संविधान हमारा।
आख़िरी दम तक, संविधान हमारा।

लगाएंगे बस एक ही रट!
जय हिन्द, जय भारत।

– सृष्टि बंसल

Language: Hindi
1 Like · 85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ईश्वर
ईश्वर
Shyam Sundar Subramanian
Quote...
Quote...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,
Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,
Sakshi Tripathi
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
Vicky Purohit
#आज_की_कविता :-
#आज_की_कविता :-
*Author प्रणय प्रभात*
संसार का स्वरूप
संसार का स्वरूप
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"छिपकली"
Dr. Kishan tandon kranti
Love ❤
Love ❤
HEBA
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
Dushyant Kumar
एक मुट्ठी राख
एक मुट्ठी राख
Shekhar Chandra Mitra
काल का स्वरूप🙏
काल का स्वरूप🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कलम की वेदना (गीत)
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
वक़्त ने जिनकी
वक़्त ने जिनकी
Dr fauzia Naseem shad
गरीब
गरीब
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मन की कामना
मन की कामना
Basant Bhagawan Roy
थूंक पॉलिस
थूंक पॉलिस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आप जब तक दुःख के साथ भस्मीभूत नहीं हो जाते,तब तक आपके जीवन क
आप जब तक दुःख के साथ भस्मीभूत नहीं हो जाते,तब तक आपके जीवन क
Shweta Soni
कैसे भूल जाएं...
कैसे भूल जाएं...
Er. Sanjay Shrivastava
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
शहीद की पत्नी
शहीद की पत्नी
नन्दलाल सुथार "राही"
श्री राम का अन्तर्द्वन्द
श्री राम का अन्तर्द्वन्द
Paras Nath Jha
गणेश जी पर केंद्रित विशेष दोहे
गणेश जी पर केंद्रित विशेष दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्यार की कलियुगी परिभाषा
प्यार की कलियुगी परिभाषा
Mamta Singh Devaa
अमिट सत्य
अमिट सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
है मुश्किल दौर सूखी,
है मुश्किल दौर सूखी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आज बगिया में था सम्मेलन
आज बगिया में था सम्मेलन
VINOD CHAUHAN
Loading...