Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

जय माँ अम्बे

जय माँ अम्बे
????
ये मेरा भाग्य है मैया
जो मैं तेरे दर पे आई
मैं तर गई मैया
जो तुने हृदय लगाई

ये तन ,मन तुम्हारा
ये जीवन भी तुम्हारा
जो कुछ भी पास मेरा
सब कर्ज है तुम्हारा

खाली है हाथ मेरा
झोली मेरी है खाली
तुझे क्या करूँ मैं अर्पण
मैं कुछ समझ ना पाई

कुछ भी नहीं है मेरा
मै पुत्री हूँ तुम्हारा
तेरा ही रूप मेरा
गुण धर्म सब तुम्हारा

ये मेरा भाग्य है मैया
जो मै तेरे दर पे आई।
मैं तर गई मैया
जो तुने हृदय लगाई।
????—लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
624 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
(12) भूख
(12) भूख
Kishore Nigam
#हिंदी_ग़ज़ल
#हिंदी_ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
मुस्कुराने लगे है
मुस्कुराने लगे है
Paras Mishra
लिखने के आयाम बहुत हैं
लिखने के आयाम बहुत हैं
Shweta Soni
" सुन‌ सको तो सुनों "
Aarti sirsat
*कुंडलिया कुसुम: वास्तव में एक राष्ट्रीय साझा कुंडलिया संकलन
*कुंडलिया कुसुम: वास्तव में एक राष्ट्रीय साझा कुंडलिया संकलन
Ravi Prakash
सहारा...
सहारा...
Naushaba Suriya
पितृ दिवस
पितृ दिवस
Ram Krishan Rastogi
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
हो हमारी या तुम्हारी चल रही है जिंदगी।
सत्य कुमार प्रेमी
"कुछ रास्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
*यूं सताना आज़माना छोड़ दे*
*यूं सताना आज़माना छोड़ दे*
sudhir kumar
कहीं पे पहुँचने के लिए,
कहीं पे पहुँचने के लिए,
शेखर सिंह
साया
साया
Harminder Kaur
क्रिकेट
क्रिकेट
SHAMA PARVEEN
श्री कृष्णा
श्री कृष्णा
Surinder blackpen
"बेल की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
विश्वास
विश्वास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
gurudeenverma198
बंदूक की गोली से,
बंदूक की गोली से,
नेताम आर सी
फितरत है इंसान की
फितरत है इंसान की
आकाश महेशपुरी
माँ सरस्वती प्रार्थना
माँ सरस्वती प्रार्थना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
विभेद दें।
विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
फ़ेसबुक पर पिता दिवस / मुसाफ़िर बैठा
फ़ेसबुक पर पिता दिवस / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मां की याद
मां की याद
Neeraj Agarwal
Why always me!
Why always me!
Bidyadhar Mantry
लोग जाने किधर गये
लोग जाने किधर गये
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"डिजिटल दुनिया! खो गए हैं हम.. इस डिजिटल दुनिया के मोह में,
पूर्वार्थ
बुढ़ापा
बुढ़ापा
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
2401.पूर्णिका
2401.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...