Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2016 · 1 min read

जयबालाजी:: पीने को शिव इष्ट रामकी हाला:: जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट ३२)

जयबालाजी:: पीनेको शिव इष्ट रामकी दीप्ति माधुरी की हाला ।
दशरथ प्रांगणमें पहुँचे धर रूप मदारी का आला ।
संग चपल सुंदर बंदर ले, खेल दिखाते वे सबको ।
एक शक्ति के द्विधा दृश्य थे स्वयं शम्भु ही शिव, बाला!!

—-+ जितेन्द्र कमल आनंद

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
187 Views
You may also like:
दुनियां फना हो जानी है।
Taj Mohammad
वही ज़िंदगी में
Dr fauzia Naseem shad
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
क्या बताये वो पहली नजर का इश्क
N.ksahu0007@writer
" की बोर्ड "
Dr Meenu Poonia
✍️वो खूबसूरती✍️
'अशांत' शेखर
ख़्वाब
Gaurav Sharma
बोझ
आकांक्षा राय
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
मेरे सपने
Anamika Singh
प्रकृति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इंतजार से बेहतर है कोशिश करना
कवि दीपक बवेजा
हर चीज से वीरान मैं अब श्मशान बन गया हूँ,
Aditya Prakash
शराब सहारा
Anurag pandey
ग़ज़ल
kamal purohit
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
इक्यावन इन्द्रधनुषी ग़ज़लें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चिड़िया रानी
Buddha Prakash
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
राज
Alok Saxena
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
*ट्रस्टीशिप-उपहार है (गीत)*
Ravi Prakash
जेंडर जेहाद
Shekhar Chandra Mitra
مستان میاں
Shivkumar Bilagrami
नशा
shabina. Naaz
तुम्हारा ध्यान कहाँ है.....
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
Loading...