Oct 18, 2016 · 1 min read

जयबालाजी:: पीने को शिव इष्ट रामकी हाला:: जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट ३२)

जयबालाजी:: पीनेको शिव इष्ट रामकी दीप्ति माधुरी की हाला ।
दशरथ प्रांगणमें पहुँचे धर रूप मदारी का आला ।
संग चपल सुंदर बंदर ले, खेल दिखाते वे सबको ।
एक शक्ति के द्विधा दृश्य थे स्वयं शम्भु ही शिव, बाला!!

—-+ जितेन्द्र कमल आनंद

86 Views
You may also like:
ये माला के जंगल
Rita Singh
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वोह जब जाती है .
ओनिका सेतिया 'अनु '
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
जगत के स्वामी
AMRESH KUMAR VERMA
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उम्मीदों के परिन्दे
Alok Saxena
फास्ट फूड
AMRESH KUMAR VERMA
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
चिट्ठी का जमाना और अध्यापक
Mahender Singh Hans
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
सलाम
Shriyansh Gupta
नई लीक....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आह! 14 फरवरी को आई और 23 फरवरी को चली...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हनुमंता
Dhirendra Panchal
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
फरियाद
Anamika Singh
करते रहिये काम
सूर्यकांत द्विवेदी
अंजान बन जाते हैं।
Taj Mohammad
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H.
Loading...