Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2016 · 1 min read

जयबालाजी:: पीने को शिव इष्ट रामकी हाला:: जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट ३२)

जयबालाजी:: पीनेको शिव इष्ट रामकी दीप्ति माधुरी की हाला ।
दशरथ प्रांगणमें पहुँचे धर रूप मदारी का आला ।
संग चपल सुंदर बंदर ले, खेल दिखाते वे सबको ।
एक शक्ति के द्विधा दृश्य थे स्वयं शम्भु ही शिव, बाला!!

—-+ जितेन्द्र कमल आनंद

Language: Hindi
634 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2882.*पूर्णिका*
2882.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
हां....वो बदल गया
हां....वो बदल गया
Neeraj Agarwal
शेष न बचा
शेष न बचा
Er. Sanjay Shrivastava
चुन्नी सरकी लाज की,
चुन्नी सरकी लाज की,
sushil sarna
धाराओं में वक़्त की, वक़्त भी बहता जाएगा।
धाराओं में वक़्त की, वक़्त भी बहता जाएगा।
Manisha Manjari
हम गांव वाले है जनाब...
हम गांव वाले है जनाब...
AMRESH KUMAR VERMA
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
आर.एस. 'प्रीतम'
अब ये ना पूछना कि,
अब ये ना पूछना कि,
शेखर सिंह
भारत का अतीत
भारत का अतीत
Anup kanheri
* मन में कोई बात न रखना *
* मन में कोई बात न रखना *
surenderpal vaidya
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
कवि रमेशराज
সিগারেট নেশা ছিল না
সিগারেট নেশা ছিল না
Sakhawat Jisan
तूफ़ान और मांझी
तूफ़ान और मांझी
DESH RAJ
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
वही दरिया के  पार  करता  है
वही दरिया के पार करता है
Anil Mishra Prahari
कौन पंखे से बाँध देता है
कौन पंखे से बाँध देता है
Aadarsh Dubey
सर्जिकल स्ट्राइक
सर्जिकल स्ट्राइक
लक्ष्मी सिंह
तेरे होने का जिसमें किस्सा है
तेरे होने का जिसमें किस्सा है
shri rahi Kabeer
जय जय हिन्दी
जय जय हिन्दी
gurudeenverma198
"चित्तू चींटा कहे पुकार।
*Author प्रणय प्रभात*
मुझे इंतजार है , इंतजार खत्म होने का
मुझे इंतजार है , इंतजार खत्म होने का
Karuna Goswami
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
Manoj Mahato
माँ की यादें
माँ की यादें
मनोज कर्ण
"आफ़ताब"
Dr. Kishan tandon kranti
*मन का समंदर*
*मन का समंदर*
Sûrëkhâ
नारी को समझो नहीं, पुरुषों से कमजोर (कुंडलिया)
नारी को समझो नहीं, पुरुषों से कमजोर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
घर के आंगन में
घर के आंगन में
Shivkumar Bilagrami
कभी कभी खामोशी भी बहुत सवालों का जवाब होती हे !
कभी कभी खामोशी भी बहुत सवालों का जवाब होती हे !
Ranjeet kumar patre
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
Loading...