Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

जमी हुई धूल

उस जमी हुई धूल को साफ़ मत करो
वक़्त के आईने पर पर्दा ज़रूरी होता है।
जो किस्सा भूल जाने में भलाई हो
उसे भूल जाओ.…….याद मत करो
जो छोड़कर जाने में अड़े हैं
उन्हें जाने दो……..फरियाद मत करो
उस जमी हुई धूल को साफ़ मत करो।

पलछिन लम्हा, लम्हें महीने और
महीने साल बन जाते हैं,
और वक़्त के आईने पर
फिर वही धूल जम जाती है।
भूल जाओ कि कौन छूटा
भूल जाओ कि क्यों दिल टूटा
वो जमी हुई धूल मरहम बन जाती है
उस मरहम को यूँहीं बर्बाद मत करो
उस जमी हुई धूल को साफ़ मत करो।

-जॉनी अहमद ‘क़ैस’

3 Likes · 312 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
तेरी यादों के सहारे वक़्त गुजर जाता है
VINOD CHAUHAN
देखा है।
देखा है।
Shriyansh Gupta
मिष्ठी रानी गई बाजार
मिष्ठी रानी गई बाजार
Manu Vashistha
सावन महिना
सावन महिना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
फिर मिलेंगें
फिर मिलेंगें
साहित्य गौरव
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जीवन का मकसद क्या है?
जीवन का मकसद क्या है?
Buddha Prakash
7) पूछ रहा है दिल
7) पूछ रहा है दिल
पूनम झा 'प्रथमा'
*बस एक बार*
*बस एक बार*
Shashi kala vyas
हमसे ये ना पूछो कितनो से दिल लगाया है,
हमसे ये ना पूछो कितनो से दिल लगाया है,
Ravi Betulwala
“दो अपना तुम साथ मुझे”
“दो अपना तुम साथ मुझे”
DrLakshman Jha Parimal
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
sushil sarna
भाव में शब्द में हम पिरो लें तुम्हें
भाव में शब्द में हम पिरो लें तुम्हें
Shweta Soni
,,,,,,
,,,,,,
शेखर सिंह
मैं एक पल हूँ
मैं एक पल हूँ
Swami Ganganiya
पत्र
पत्र
लक्ष्मी सिंह
🌸प्रकृति 🌸
🌸प्रकृति 🌸
Mahima shukla
हार से भी जीत जाना सीख ले।
हार से भी जीत जाना सीख ले।
सत्य कुमार प्रेमी
🇮🇳 मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
🇮🇳 मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
Dr Manju Saini
तकते थे हम चांद सितारे
तकते थे हम चांद सितारे
Suryakant Dwivedi
3336.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3336.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"जिराफ"
Dr. Kishan tandon kranti
#लघुकथा :--
#लघुकथा :--
*Author प्रणय प्रभात*
भारत
भारत
नन्दलाल सुथार "राही"
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*मेरे सरकार आते हैं (सात शेर)*
*मेरे सरकार आते हैं (सात शेर)*
Ravi Prakash
भरोसा
भरोसा
Paras Nath Jha
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
Manisha Manjari
Loading...