Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2016 · 1 min read

जब से दुकान खोली है तीरो कमान की

अल्लाह कर रहा है हिफ़ाजत मकान की
बिजली यहाँ गिरे तो गिरे आसमान की
……..
बाज़ी लगाने जान की आया न तब कोई
जबसे दुकान खोली है तीरो कमान की
……..
मुझसे वफ़ा निभाते हैं अपने भी ग़ैर भी
दुनिया सजा के बैठा हूँ वहमो गुमान की
………
सच तो यहीं है माने न माने कोई मगर
सारे जहाँ में धूम है उर्दू ज़बान की
………
सारा लहू निचोड दो दामन पे देश के
मिटटी महकनी चाहिये हिन्दुस्तान की
………
सालिब वही है मालिको मुख़तारेे कुल जहाँ
तक़दीर लिख रहा है जो सारे जहान की
……..
सालिब चन्दियानवी

290 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रामबाण
रामबाण
Pratibha Pandey
~~बस यूँ ही~~
~~बस यूँ ही~~
Dr Manju Saini
एक पंथ दो काज
एक पंथ दो काज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
Rekha khichi
2270.
2270.
Dr.Khedu Bharti
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
Neeraj Agarwal
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
DrLakshman Jha Parimal
मानवता
मानवता
विजय कुमार अग्रवाल
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
शिल्पी सिंह बघेल
■ कविता / अंतरिक्ष
■ कविता / अंतरिक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
बाल-कविता: 'मम्मी-पापा'
बाल-कविता: 'मम्मी-पापा'
आर.एस. 'प्रीतम'
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
Shyam Sundar Subramanian
*होली*
*होली*
Shashi kala vyas
जीवन को सुखद बनाने की कामना मत करो
जीवन को सुखद बनाने की कामना मत करो
कृष्णकांत गुर्जर
रामचरितमानस (मुक्तक)
रामचरितमानस (मुक्तक)
नीरज कुमार ' सरल'
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
Suryakant Dwivedi
बरगद का दरख़्त है तू
बरगद का दरख़्त है तू
Satish Srijan
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
*मनुज पक्षी से सीखे (कुंडलिया)*
*मनुज पक्षी से सीखे (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दिल के टूटने की सदाओं से वादियों को गुंजाती हैं, क्यूँकि खुशियाँ कहाँ मेरे मुक़द्दर को रास आती है।
दिल के टूटने की सदाओं से वादियों को गुंजाती हैं, क्यूँकि खुशियाँ कहाँ मेरे मुक़द्दर को रास आती है।
Manisha Manjari
कोई गीता समझता है कोई कुरान पढ़ता है ।
कोई गीता समझता है कोई कुरान पढ़ता है ।
Dr. Man Mohan Krishna
मन खामोश है
मन खामोश है
Surinder blackpen
अनुशासित रहे, खुद पर नियंत्रण रखें ।
अनुशासित रहे, खुद पर नियंत्रण रखें ।
Shubham Pandey (S P)
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
पूर्वार्थ
কি?
কি?
Otteri Selvakumar
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
कुमार
कृष्ण दामोदरं
कृष्ण दामोदरं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...