Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2017 · 1 min read

जब वफ़ा पर सवाल होता है

जब वफ़ा पर सवाल होता है
तब बुरा दिल का’ हाल होता है

जब तलक हम सँभल नहीं पाते
फिर नया इक बवाल होता है

याद आता है बचपना जब भी
फिर वही सब धमाल होता है

कौन कितना हिसाब रक्खेगा
रोज ही गोलमाल होता है

दौर दौरों का’ चल पड़ा है अब
रोज कोई हलाल होता है

कौन आता है’ रोज यूँ छत पर
बारिशों में कमाल होता है

हाल होता ख़राब शहरों का
चोर जब कोतवाल होता है

बात से घात मत कभी करिए
बाद में फिर मलाल होता है

454 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
If you have someone who genuinely cares about you, respects
If you have someone who genuinely cares about you, respects
पूर्वार्थ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
World Blood Donar's Day
World Blood Donar's Day
Tushar Jagawat
Speak with your work not with your words
Speak with your work not with your words
Nupur Pathak
कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!
कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!
Bodhisatva kastooriya
सीख लिया मैनै
सीख लिया मैनै
Seema gupta,Alwar
You can't AFFORD me
You can't AFFORD me
Vandana maurya
पिता के बिना सन्तान की, होती नहीं पहचान है
पिता के बिना सन्तान की, होती नहीं पहचान है
gurudeenverma198
अनजान दीवार
अनजान दीवार
Mahender Singh
बेटा बेटी का विचार
बेटा बेटी का विचार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
भक्ति -गजल
भक्ति -गजल
rekha mohan
!! पत्थर नहीं हूँ मैं !!
!! पत्थर नहीं हूँ मैं !!
Chunnu Lal Gupta
#पर्व_का_सार
#पर्व_का_सार
*Author प्रणय प्रभात*
मन का डर
मन का डर
Aman Sinha
💐प्रेम कौतुक-316💐
💐प्रेम कौतुक-316💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं आग लगाने आया हूं
मैं आग लगाने आया हूं
Shekhar Chandra Mitra
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दस्तक भूली राह दरवाजा
दस्तक भूली राह दरवाजा
Suryakant Dwivedi
कहां खो गए
कहां खो गए
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
एक किताब खोलो
एक किताब खोलो
Dheerja Sharma
"मन क्यों मौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
****शिरोमणि****
****शिरोमणि****
प्रेमदास वसु सुरेखा
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
समझे वही हक़ीक़त
समझे वही हक़ीक़त
Dr fauzia Naseem shad
एक ही तो, निशा बचा है,
एक ही तो, निशा बचा है,
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
“जगत जननी: नारी”
“जगत जननी: नारी”
Swara Kumari arya
2444.पूर्णिका
2444.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*जितनी बार पढ़ोगे पुस्तक, नया अर्थ मिलता है (मुक्तक)*
*जितनी बार पढ़ोगे पुस्तक, नया अर्थ मिलता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...