Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

जब बोया पेड़ बबूल का , तो आम का फल कहाँ से मिलेगा

छोड़ कर दुनिया का साथ , सब को जाना ही पड़ेगा
अरमानो का खजाना छोड़ , जाना ही जरूर पड़ेगा

जेब तो भर ली अपने खजाने से इतनी की हद हो
गयी इस को संभालने में , अब क्या करे इंसान
बन बैठा हैवान, शैतान, और बनता है अब अनजान
सोचा लेना, जाने वाले के कफन में कभी जेब नहीं होती !!

कोशिश तो की थी की साथ ले जाऊँगा यह कौडिओं को
जिस्म जैसा भेजा था उस ने , वैसा ही वापिस मांग लिया
बस फर्क इतना पैदा हो गया अब यहाँ से जाने में मेरे
साफ़ सुथरा आया था, पापों का घड़ा भरा साथ हो लिया !!

कर्मो का हिसाब-किताब , किताब में दर्ज हो गया है
जैसा बोया था मैने, उस को काटने का समां आ गया है
वहां न होगा मेरा संगी साथ कोई, यह समझाना पड़ेगा
जब बोया पेड़ बबूल का , तो आम का फल कहाँ से मिलेगा !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
289 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
जनतंत्र
जनतंत्र
अखिलेश 'अखिल'
प्रायश्चित
प्रायश्चित
Shyam Sundar Subramanian
जरूरत पड़ने पर बहाना और बुरे वक्त में ताना,
जरूरत पड़ने पर बहाना और बुरे वक्त में ताना,
Ranjeet kumar patre
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
Paras Nath Jha
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
Surinder blackpen
लेखनी चले कलमकार की
लेखनी चले कलमकार की
Harminder Kaur
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*भर दो गणपति देवता, हम में बुद्धि विवेक (कुंडलिया)*
*भर दो गणपति देवता, हम में बुद्धि विवेक (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्री वेडिंग की आँधी
प्री वेडिंग की आँधी
Anil chobisa
*बीमारी न छुपाओ*
*बीमारी न छुपाओ*
Dushyant Kumar
॥ जीवन यात्रा मे आप किस गति से चल रहे है इसका अपना  महत्व  ह
॥ जीवन यात्रा मे आप किस गति से चल रहे है इसका अपना महत्व ह
Satya Prakash Sharma
बना रही थी संवेदनशील मुझे
बना रही थी संवेदनशील मुझे
Buddha Prakash
"" *सपनों की उड़ान* ""
सुनीलानंद महंत
होना नहीं अधीर
होना नहीं अधीर
surenderpal vaidya
भक्तिभाव
भक्तिभाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3142.*पूर्णिका*
3142.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
“मत लड़, ऐ मुसाफिर”
पंकज कुमार कर्ण
अपराध बालिग़
अपराध बालिग़
*प्रणय प्रभात*
एक कथित रंग के चादर में लिपटे लोकतंत्र से जीवंत समाज की कल्प
एक कथित रंग के चादर में लिपटे लोकतंत्र से जीवंत समाज की कल्प
Anil Kumar
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
कवि दीपक बवेजा
मैं हूं कार
मैं हूं कार
Santosh kumar Miri
"तब तुम क्या करती"
Lohit Tamta
बाल कविता: वर्षा ऋतु
बाल कविता: वर्षा ऋतु
Rajesh Kumar Arjun
मेरा सुकून....
मेरा सुकून....
Srishty Bansal
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
"चाहत का घर"
Dr. Kishan tandon kranti
I met Myself!
I met Myself!
कविता झा ‘गीत’
*परियों से  भी प्यारी बेटी*
*परियों से भी प्यारी बेटी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कल्पना ही हसीन है,
कल्पना ही हसीन है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
Johnny Ahmed 'क़ैस'
Loading...