Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

जब प्रेम की परिणति में

जब प्रेम की परिणति में
अग्नि-परीक्षा हीं धरी,
फिर वचन क्या,फेरे भी क्या
मेरा तुम्हारा साथ क्या
जन्मों जनम की बात क्या,,
संदेह है तो प्रेम क्या
आपस का कुशल क्षेम क्या
पूछी न मन पीड़ा कभी
फिर हाथ में है हाथ क्या,
जन्मों जनम की बात क्या।

1 Like · 116 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
#विषय:- पुरूषोत्तम राम
#विषय:- पुरूषोत्तम राम
Pratibha Pandey
खुशी पाने की जद्दोजहद
खुशी पाने की जद्दोजहद
डॉ० रोहित कौशिक
*चिकने-चुपड़े लिए मुखौटे, छल करने को आते हैं (हिंदी गजल)*
*चिकने-चुपड़े लिए मुखौटे, छल करने को आते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
Dad's Tales of Yore
Dad's Tales of Yore
Natasha Stephen
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
एक हाथ में क़लम तो दूसरे में क़िताब रखते हैं!
The_dk_poetry
शिशुपाल वध
शिशुपाल वध
SHAILESH MOHAN
वोट दिया किसी और को,
वोट दिया किसी और को,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मेघों का मेला लगा,
मेघों का मेला लगा,
sushil sarna
हिंदी दोहा-कालनेमि
हिंदी दोहा-कालनेमि
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
Buddha Prakash
ओ पंछी रे
ओ पंछी रे
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
"राष्ट्रपति डॉ. के.आर. नारायणन"
Dr. Kishan tandon kranti
लिबासों की तरह, मुझे रिश्ते बदलने का शौक़ नहीं,
लिबासों की तरह, मुझे रिश्ते बदलने का शौक़ नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
राम विवाह कि मेहंदी
राम विवाह कि मेहंदी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सुविचार
सुविचार
Sunil Maheshwari
गुहार
गुहार
Sonam Puneet Dubey
यूँ भी होता है,अगर दिल में ख़लिश आ जाए,,
यूँ भी होता है,अगर दिल में ख़लिश आ जाए,,
Shweta Soni
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
उसकी हड्डियों का भंडार तो खत्म होना ही है, मगर ध्यान देना कह
Sanjay ' शून्य'
राम
राम
Suraj Mehra
मैं घाट तू धारा…
मैं घाट तू धारा…
Rekha Drolia
तुमको खोकर
तुमको खोकर
Dr fauzia Naseem shad
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आँचल की छाँह🙏
आँचल की छाँह🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
A Departed Soul Can Never Come Again
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
रंग तो प्रेम की परिभाषा है
रंग तो प्रेम की परिभाषा है
Dr. Man Mohan Krishna
ज्ञानमय
ज्ञानमय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
राम बनना कठिन है
राम बनना कठिन है
Satish Srijan
मोहब्बत और मयकशी में
मोहब्बत और मयकशी में
शेखर सिंह
Loading...