Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2018 · 1 min read

जब देश के रक्षक खुद भक्षक बन जाते है

जब देश के रक्षक खुद भक्षक बन जाते है
कुर्सी में बैठे लोग मूक दर्शक बन जाते है
देखो संसद भी गूंज जाती है अपने स्वार्थ के नारों से
आरोप प्रतिआरोप की होली होती संसद और चौबारों में

नाजने कितने सच दफ़न होते है कुर्सी के अभिनंदन में
नाजने कितनी लाशें बिछती है कुर्सी के वंदन में
नाजने कितने झूठे मक्कार वहाँ जा बैठे है
जिनको होना था सलाखों के पीछे
वो सरकार बनाए बैठे है

देश की मर्यादा का किसने संसद में जिक्र करा
रेप, हत्या,और गरीबी से किसने देश को मुक्त करा
सब के सब झूठे वादे करके तिजोरी भर जाते है
भूल जाते है जनता को बस झूठे वादे रह जाते है

देश के कोनों(बार्डर)में नाजने कितनी अर्थी सजती है
देश की राजनीति नाजने कितने सुहाग ले उजड़ती है
संसद में चर्चा करने से कुछ नही होने वाला
दो उन्हे आज़ादी फिर देखो
सोने को चिड़िया वाला देश
गुलाम नहीं होने वाला

गुलामी की जंजीरे तुमने वीरों पर टांग दी
आज़ाद देश को फिर गुलामी इनाम दी

Language: Hindi
1 Like · 352 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नैतिकता का इतना
नैतिकता का इतना
Dr fauzia Naseem shad
पूजा
पूजा
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कुंवारों का तो ठीक है
कुंवारों का तो ठीक है
शेखर सिंह
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
Subhash Singhai
आग और पानी 🔥🌳
आग और पानी 🔥🌳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*जीवन के गान*
*जीवन के गान*
Mukta Rashmi
कसक
कसक
Dipak Kumar "Girja"
अपना नैनीताल...
अपना नैनीताल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
लक्ष्मी सिंह
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
पूर्वार्थ
सफलता की ओर
सफलता की ओर
Vandna Thakur
युवा हृदय सम्राट : स्वामी विवेकानंद
युवा हृदय सम्राट : स्वामी विवेकानंद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
आप आज शासक हैं
आप आज शासक हैं
DrLakshman Jha Parimal
यूं किसने दस्तक दी है दिल की सियासत पर,
यूं किसने दस्तक दी है दिल की सियासत पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लड़खड़ाते है कदम
लड़खड़ाते है कदम
SHAMA PARVEEN
ग़ज़ल --
ग़ज़ल --
Seema Garg
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
Aruna Dogra Sharma
कथित परिवारवाद-विरोधी पार्टी अब अपने पुछल्ले की हारी हुई बीव
कथित परिवारवाद-विरोधी पार्टी अब अपने पुछल्ले की हारी हुई बीव
*प्रणय प्रभात*
गुरु के पद पंकज की पनही
गुरु के पद पंकज की पनही
Sushil Pandey
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
रिसाय के उमर ह , मनाए के जनम तक होना चाहि ।
Lakhan Yadav
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
Paras Nath Jha
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अबके तीजा पोरा
अबके तीजा पोरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अधबीच
अधबीच
Dr. Mahesh Kumawat
इश्क
इश्क
Neeraj Mishra " नीर "
कोई शक्स किताब सा मिलता ।
कोई शक्स किताब सा मिलता ।
Ashwini sharma
ए दिल मत घबरा
ए दिल मत घबरा
Harminder Kaur
Loading...