Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

जब तुम मिलीं – एक दोस्त से सालों बाद मुलाकात होने पर ।

भीड़ में एक दिन जब मुझे तुम मिली,
लगा यूँ की खूब मिली,
मिली मुझे – ज़िंदगी .

यूँ मिलते मिलाते, हंसते खिलखिलाते,
आया—
हवा का झोंका एक दिन
एक तूफान – साथ लाया
लगने लगा यूँ – कुछ गुमा
रेत के पहाड़ में, पत्तो के ढेर तले,
गुम गयी ज़िंदगी,
गुम गयी तुम.

चारो दिशाओं में उड़ता धुआ था,
दिखाई देता न कोई पंछी परिंदा था,
दूर क्षितिज भी सिकुद्ती लालिमा लिए एकाकी खड़ा था,
वृक्ष भी बिन पत्तों के अकेला ही चला था,
की आया फिर हवा का तेज़ झौका ,
आँधियारे बादल छटने लगे
धुआ भी सिमटने लगा,
दिनकर की किरणों से संसार फिर तपने लगा,
ओस की बूँदो में चेहरा एक दिखने लगा,
लगा यूँ की–
मिल गयी ज़िंदगी
मिल गयी तुम.

100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dhriti Mishra
View all
You may also like:
मेरा दुश्मन मेरा मन
मेरा दुश्मन मेरा मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
3258.*पूर्णिका*
3258.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विश्वकर्मा जयंती उत्सव की सभी को हार्दिक बधाई
विश्वकर्मा जयंती उत्सव की सभी को हार्दिक बधाई
Harminder Kaur
साहित्य सृजन .....
साहित्य सृजन .....
Awadhesh Kumar Singh
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
Ajay Kumar Vimal
The Saga Of That Unforgettable Pain
The Saga Of That Unforgettable Pain
Manisha Manjari
"अकेलापन की खुशी"
Pushpraj Anant
श्रद्धा के सुमन ले के आया तेरे चरणों में
श्रद्धा के सुमन ले के आया तेरे चरणों में
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जनैत छी हमर लिखबा सँ
जनैत छी हमर लिखबा सँ
DrLakshman Jha Parimal
नींद आती है......
नींद आती है......
Kavita Chouhan
राह दिखा दो मेरे भगवन
राह दिखा दो मेरे भगवन
Buddha Prakash
मन की पीड़ा
मन की पीड़ा
पूर्वार्थ
कौन कहता ये यहां नहीं है ?🙏
कौन कहता ये यहां नहीं है ?🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मन की इच्छा मन पहचाने
मन की इच्छा मन पहचाने
Suryakant Dwivedi
* माथा खराब है *
* माथा खराब है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुझको मेरी लत लगी है!!!
मुझको मेरी लत लगी है!!!
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुम मुझे यूँ ही याद रखना
तुम मुझे यूँ ही याद रखना
Bhupendra Rawat
वर्तमान परिदृश्य में महाभारत (सरसी)
वर्तमान परिदृश्य में महाभारत (सरसी)
नाथ सोनांचली
जूते व जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
जूते व जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
कमीजें
कमीजें
Madhavi Srivastava
"बढ़"
Dr. Kishan tandon kranti
■ चुनावी चकल्लस ***
■ चुनावी चकल्लस ***
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
Manoj Mahato
शिक्षित बनो शिक्षा से
शिक्षित बनो शिक्षा से
gurudeenverma198
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
Rj Anand Prajapati
कलयुगी धृतराष्ट्र
कलयुगी धृतराष्ट्र
Dr Parveen Thakur
*मनमौजी (बाल कविता)*
*मनमौजी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
उजले दिन के बाद काली रात आती है
उजले दिन के बाद काली रात आती है
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
Anand Kumar
माँ दे - दे वरदान ।
माँ दे - दे वरदान ।
Anil Mishra Prahari
Loading...