Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

जब तात तेरा कहलाया था

जब थाम के मेरी ऊँगली को, तू धीरे से मुस्काया था
जब लेकर तुझको गोद में मैं, सबसे पहले इतराया था

तब जाकर मैं पहली बार, तात तेरा कहलाया था

जब तेरे अक्स नें मुझको मेरे अक्स से यूँ मिलवाया था
जब तुझको ख़ुद की पीठ बिठाकर, आँगन में घुमाया था

तब पहली बार को सच में मैं, तात तेरा कहलाया था

जब तेरी ऊँगली थाम के मैंने, चलना तुझे सिखाया था
तुझको याद नहीं होगा जब, लिखना तुझे सिखाया था

तब शायद पहली बार कहीं, मैं तात तेरा बन पाया था

अब तू थोड़ा बड़ा हो गया, चलना ख़ुद से आता है
छोड़ के मेरी ऊँगली को, तू ख़ुद स्कूल को जाता है

ख़ुद से सोच समझ कर तू, मुश्किलों को दूर भगाता है
ख़ुद से जीना सीख सीख कर, मंज़िल पर कदम बढ़ाता है

अब नया जोश है, नए हैं सपनें और उम्मीदें ढेरों सी हैं
मुझको भी तेरे सपनों को पूरा करना जिद सी है

जब तेरी सारी खुशियों से तेरा दामन भर पाऊँगा
तेरी हर कठिन ड़गर पर मैं, जब फूलों सा बिछ जाऊँगा

तब जाकर शायद ख़ुद को, मैं तात तेरा कह पाऊँगा

तेरे सपनों के खातिर मैं इस जग से भी लड़ जाऊँगा
तेरी हर एक ख़ुशी को मैं अपना हर लक्ष्य बनाऊंगा

तुझको भी होगा फक्र कभी, जब ये जज़्बात बताऊँगा
खुदा की महफिल में भी तब, मैं तात तेरा कहलाऊँगा ।

!! आकाशवाणी !!

Language: Hindi
1 Like · 101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Please Help Me...
Please Help Me...
Srishty Bansal
अपने अपने कटघरे हैं
अपने अपने कटघरे हैं
Shivkumar Bilagrami
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैने वक्त को कहा
मैने वक्त को कहा
हिमांशु Kulshrestha
*****श्राद्ध कर्म*****
*****श्राद्ध कर्म*****
Kavita Chouhan
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
कवि दीपक बवेजा
दर्द की धुन
दर्द की धुन
Sangeeta Beniwal
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
Atul "Krishn"
जग मग दीप  जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
जग मग दीप जले अगल-बगल में आई आज दिवाली
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*सुकृति (बाल कविता)*
*सुकृति (बाल कविता)*
Ravi Prakash
नया सपना
नया सपना
Kanchan Khanna
अब तू किसे दोष देती है
अब तू किसे दोष देती है
gurudeenverma198
माॅ॑ बहुत प्यारी बहुत मासूम होती है
माॅ॑ बहुत प्यारी बहुत मासूम होती है
VINOD CHAUHAN
मातृशक्ति
मातृशक्ति
Sanjay ' शून्य'
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
रात भर नींद भी नहीं आई
रात भर नींद भी नहीं आई
Shweta Soni
रूपमाला (मदन ) छंद विधान सउदाहरण
रूपमाला (मदन ) छंद विधान सउदाहरण
Subhash Singhai
उम्र थका नही सकती,
उम्र थका नही सकती,
Yogendra Chaturwedi
2923.*पूर्णिका*
2923.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
शीर्षक – मां
शीर्षक – मां
Sonam Puneet Dubey
रोटी की ख़ातिर जीना जी
रोटी की ख़ातिर जीना जी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गुलमोहर
गुलमोहर
डॉ.स्नेहलता
रमेशराज का हाइकु-शतक
रमेशराज का हाइकु-शतक
कवि रमेशराज
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
पूर्वार्थ
अन्न का मान
अन्न का मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
Rj Anand Prajapati
भटक ना जाना मेरे दोस्त
भटक ना जाना मेरे दोस्त
Mangilal 713
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"कुछ तो सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...