Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2023 · 1 min read

जब जब ……

जब जब टूट बिखरती हूँ
मैं कविता में सिमटती हूँ

कुछ शब्द उबारे डूबी धड़कन
बटोरे आंसू पलकन पलकन
अक्षर अक्षर बारे उम्मीद बाती
शब्द सेतु बांधे विचलित मन
भावों की नदिया गोते खाती हूँ
मैं कविता में सिमटती जाती हूँ

हर्फ़ हर्फ़ दे बाहों में पनाह
हौले सहला जाते हर आह
नासूरों पर लफ़्ज़ों के मरहम
सिसकती चाह को मिलती राह
दर्द स्याही पन्नों छिड़काती हूँ
मैं कविता में सिमटती जाती हूँ

जब जब टूट बिखरती हूँ
मैं कविता में सिमटती हूँ

रेखांकन।रेखा

Language: Hindi
190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लॉकडाउन के बाद नया जीवन
लॉकडाउन के बाद नया जीवन
Akib Javed
- अब नहीं!!
- अब नहीं!!
Seema gupta,Alwar
2849.*पूर्णिका*
2849.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तलाशता हूँ उस
तलाशता हूँ उस "प्रणय यात्रा" के निशाँ
Atul "Krishn"
पुस्तक तो पुस्तक रहा, पाठक हुए महान।
पुस्तक तो पुस्तक रहा, पाठक हुए महान।
Manoj Mahato
#विषय:- पुरूषोत्तम राम
#विषय:- पुरूषोत्तम राम
Pratibha Pandey
राम नाम
राम नाम
पंकज प्रियम
टिमटिमाता समूह
टिमटिमाता समूह
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मैं समुद्र की गहराई में डूब गया ,
मैं समुद्र की गहराई में डूब गया ,
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
वाल्मिकी का अन्याय
वाल्मिकी का अन्याय
Manju Singh
पश्चाताप का खजाना
पश्चाताप का खजाना
अशोक कुमार ढोरिया
🙅पहचान🙅
🙅पहचान🙅
*Author प्रणय प्रभात*
भक्त मार्ग और ज्ञान मार्ग
भक्त मार्ग और ज्ञान मार्ग
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बात पुरानी याद आई
बात पुरानी याद आई
नूरफातिमा खातून नूरी
जिंदगी
जिंदगी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यह समय / MUSAFIR BAITHA
यह समय / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कोई मंत्री बन गया , डिब्बा कोई गोल ( कुंडलिया )
कोई मंत्री बन गया , डिब्बा कोई गोल ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
इससे ज़्यादा
इससे ज़्यादा
Dr fauzia Naseem shad
*झूठा  बिकता यूँ अख़बार है*
*झूठा बिकता यूँ अख़बार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बने महब्बत में आह आँसू
बने महब्बत में आह आँसू
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"अनुत्तरित"
Dr. Kishan tandon kranti
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नेता बनि के आवे मच्छर
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
"एक शोर है"
Lohit Tamta
जीवन चक्र में_ पढ़ाव कई आते है।
जीवन चक्र में_ पढ़ाव कई आते है।
Rajesh vyas
एक ही बात याद रखो अपने जीवन में कि ...
एक ही बात याद रखो अपने जीवन में कि ...
Vinod Patel
अनन्त तक चलना होगा...!!!!
अनन्त तक चलना होगा...!!!!
Jyoti Khari
हमारे हाथ से एक सबक:
हमारे हाथ से एक सबक:
पूर्वार्थ
Loading...