Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2022 · 1 min read

जब चलती पुरवइया बयार

ग्रीष्म के तपते मौसम में
अब के एकाकी जीवन में,
जीवन के दोपहर में,
जब अंग-अंग बदरंग,
न पचता मीठा-तीखा,
न खाता तेल-मशाला,
जीवन हो जेल-सरीखा;
जब चलती पुरबैया बयार,
तब आती धुंधली-सी याद,
बचपन की मीठी बात,
न चिंता पढ़ने-लिखने की,
न चिंता खाने-पीने की,
बारिश हो तो धूम मचाना,
छप-छप करते दौड़ लगाना,
कागज की फिर नाव चलाना,
छोटे मेढक को खूब तैराना,
आती ये मीठी याद,
जब चलती पुरवइया बयार।

मौलिक व स्वरचित
©® श्री रमण
बेगूसराय (बिहार)

Language: Hindi
7 Likes · 10 Comments · 515 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
View all
You may also like:
जीवन की विषम परिस्थितियों
जीवन की विषम परिस्थितियों
Dr.Rashmi Mishra
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
सोच ऐसी रखो, जो बदल दे ज़िंदगी को '
Dr fauzia Naseem shad
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
मुझे ‘शराफ़त’ के तराजू पर न तोला जाए
मुझे ‘शराफ़त’ के तराजू पर न तोला जाए
Keshav kishor Kumar
* खुशियां मनाएं *
* खुशियां मनाएं *
surenderpal vaidya
"बदनामियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
वीर तुम बढ़े चलो!
वीर तुम बढ़े चलो!
Divya Mishra
चाहत
चाहत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
अमृतकलश
अमृतकलश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
Mamta Singh Devaa
घड़ी का इंतजार है
घड़ी का इंतजार है
Surinder blackpen
■ आज की बात
■ आज की बात
*प्रणय प्रभात*
शराब खान में
शराब खान में
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
इंतजार बाकी है
इंतजार बाकी है
शिवम राव मणि
भगवान भले ही मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, और चर्च में न मिलें
भगवान भले ही मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, और चर्च में न मिलें
Sonam Puneet Dubey
2764. *पूर्णिका*
2764. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये दूरियां मजबूरी नही,
ये दूरियां मजबूरी नही,
goutam shaw
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
मात्र एक पल
मात्र एक पल
Ajay Mishra
*महॅंगी कला बेचना है तो,चलिए लंदन-धाम【हिंदी गजल/ गीतिका】*
*महॅंगी कला बेचना है तो,चलिए लंदन-धाम【हिंदी गजल/ गीतिका】*
Ravi Prakash
कौन है जिम्मेदार?
कौन है जिम्मेदार?
Pratibha Pandey
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
Sampada
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
समय ही तो हमारी जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
Aarti sirsat
खुदा सा लगता है।
खुदा सा लगता है।
Taj Mohammad
जहाँ करुणा दया प्रेम
जहाँ करुणा दया प्रेम
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पुनर्वास
पुनर्वास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
शेखर सिंह
Loading...