Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2022 · 1 min read

जब चलती पुरवइया बयार

ग्रीष्म के तपते मौसम में
अब के एकाकी जीवन में,
जीवन के दोपहर में,
जब अंग-अंग बदरंग,
न पचता मीठा-तीखा,
न खाता तेल-मशाला,
जीवन हो जेल-सरीखा;
जब चलती पुरबैया बयार,
तब आती धुंधली-सी याद,
बचपन की मीठी बात,
न चिंता पढ़ने-लिखने की,
न चिंता खाने-पीने की,
बारिश हो तो धूम मचाना,
छप-छप करते दौड़ लगाना,
कागज की फिर नाव चलाना,
छोटे मेढक को खूब तैराना,
आती ये मीठी याद,
जब चलती पुरवइया बयार।

मौलिक व स्वरचित
©® श्री रमण
बेगूसराय (बिहार)

Language: Hindi
7 Likes · 10 Comments · 270 Views
You may also like:
*तुम साँझ ढले चले आना*
Shashi kala vyas
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
रखो तुम दिल में मुझे और नजर रहने दो
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
“ कुछ दिन शरणार्थियों के साथ ”
DrLakshman Jha Parimal
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*सीधा-सादा सदा एक - सा जीवन कब चलता है (गीत)*
Ravi Prakash
अखबार में क्या आएगा
कवि दीपक बवेजा
लाख मिन्नते मांगी ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
चिरनिन्द्रा
विनोद सिल्ला
रहे न अगर आस तो....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मत्तगयंद सवैया ( राखी )
संजीव शुक्ल 'सचिन'
असली गुनहगार
Shekhar Chandra Mitra
चार
Vikas Sharma'Shivaaya'
हादसा
श्याम सिंह बिष्ट
नव विहान: सकारात्मकता का दस्तावेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
यहां उनका भी दिल जोड़ दो/yahan unka bhi dil jod...
Shivraj Anand
मौत की हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग६]
Anamika Singh
कृष्ण के जन्मदिन का वर्णन
Ram Krishan Rastogi
बाबा फ़क़ीर
Buddha Prakash
कालजयी साहित्यकार जयशंकर प्रसाद जी (133 वां जन्मदिन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुझसे मेरा हाल न पूछे
Shiva Awasthi
गरीब की मौत
Alok Vaid Azad
मैं और मेरी परछाई
लक्ष्मी सिंह
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
✍️नफरत की पाठशाला✍️
'अशांत' शेखर
Loading...