Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2023 · 1 min read

प्रणय 10

जब उन्होंने मुझसे कहा-
तुम चांद हो मेरा!!
मेरे अंदर से आवाज आई –
मैंने सूरज की तरह स्वयं को जलाया है
तब जाकर मैं इस मुकाम पर पहुंची हूं
कोई कैसे कह सकता है?? कि मैं उसकी रोशनी से चमकती हुं।।

1 Like · 167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक ही तो, निशा बचा है,
एक ही तो, निशा बचा है,
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
******आधे - अधूरे ख्वाब*****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खुद के हाथ में पत्थर,दिल शीशे की दीवार है।
खुद के हाथ में पत्थर,दिल शीशे की दीवार है।
Priya princess panwar
🙅लघु-कथा🙅
🙅लघु-कथा🙅
*Author प्रणय प्रभात*
In adverse circumstances, neither the behavior nor the festi
In adverse circumstances, neither the behavior nor the festi
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अंधविश्वास
अंधविश्वास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक अकेला रिश्ता
एक अकेला रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
स्त्री
स्त्री
Dr fauzia Naseem shad
*यारा तुझमें रब दिखता है *
*यारा तुझमें रब दिखता है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
2382.पूर्णिका
2382.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
विजयादशमी
विजयादशमी
Mukesh Kumar Sonkar
अपना घर
अपना घर
ओंकार मिश्र
हर रात की
हर रात की "स्याही"  एक सराय है
Atul "Krishn"
नील गगन
नील गगन
नवीन जोशी 'नवल'
चल विजय पथ
चल विजय पथ
Satish Srijan
शंभु जीवन-पुष्प रचें....
शंभु जीवन-पुष्प रचें....
डॉ.सीमा अग्रवाल
गर सीरत की चाह हो तो लाना घर रिश्ता।
गर सीरत की चाह हो तो लाना घर रिश्ता।
Taj Mohammad
Radiance
Radiance
Dhriti Mishra
कह पाना मुश्किल बहुत, बातें कही हमें।
कह पाना मुश्किल बहुत, बातें कही हमें।
surenderpal vaidya
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"दान"
Dr. Kishan tandon kranti
लेखनी चले कलमकार की
लेखनी चले कलमकार की
Harminder Kaur
Honesty ki very crucial step
Honesty ki very crucial step
Sakshi Tripathi
जुगनू का कमाल है रातों को रोशन करना,
जुगनू का कमाल है रातों को रोशन करना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं विवेक शून्य हूँ
मैं विवेक शून्य हूँ
संजय कुमार संजू
वन  मोर  नचे  घन  शोर  करे, जब  चातक दादुर  गीत सुनावत।
वन मोर नचे घन शोर करे, जब चातक दादुर गीत सुनावत।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हिंदी में सबसे बड़ा , बिंदी का है खेल (कुंडलिया)
हिंदी में सबसे बड़ा , बिंदी का है खेल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
भ्रम जाल
भ्रम जाल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुछ तो बाकी है !
कुछ तो बाकी है !
Akash Yadav
Loading...