Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2023 · 1 min read

जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी

जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी छद्म रुकावट पर ध्यान अधिक केन्द्रित होने लगता है।

पारस नाथ झा

198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
देश के संविधान का भी
देश के संविधान का भी
Dr fauzia Naseem shad
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
Shweta Soni
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
Dr. Man Mohan Krishna
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
Dr MusafiR BaithA
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
परिवर्तन विकास बेशुमार
परिवर्तन विकास बेशुमार
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"नेशनल कैरेक्टर"
Dr. Kishan tandon kranti
*वह भी क्या दिन थे : बारात में नखरे करने के 【हास्य-व्यंग्य 】
*वह भी क्या दिन थे : बारात में नखरे करने के 【हास्य-व्यंग्य 】
Ravi Prakash
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
SPK Sachin Lodhi
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
Sahil Ahmad
माॅं
माॅं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अबोध प्रेम
अबोध प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इक्कीस मनकों की माला हमने प्रभु चरणों में अर्पित की।
इक्कीस मनकों की माला हमने प्रभु चरणों में अर्पित की।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
चाय सिर्फ चीनी और चायपत्ती का मेल नहीं
चाय सिर्फ चीनी और चायपत्ती का मेल नहीं
Charu Mitra
मंत्र: पिडजप्रवरारूढा, चंडकोपास्त्रकैर्युता।
मंत्र: पिडजप्रवरारूढा, चंडकोपास्त्रकैर्युता।
Harminder Kaur
शुरुआत जरूरी है
शुरुआत जरूरी है
Shyam Pandey
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लक्ष्य जितना बड़ा होगा उपलब्धि भी उतनी बड़ी होगी।
लक्ष्य जितना बड़ा होगा उपलब्धि भी उतनी बड़ी होगी।
Paras Nath Jha
सावन मास निराला
सावन मास निराला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सब्र रखो सच्च है क्या तुम जान जाओगे
सब्र रखो सच्च है क्या तुम जान जाओगे
VINOD CHAUHAN
मेरे होंठों पर
मेरे होंठों पर
Surinder blackpen
* विजयदशमी *
* विजयदशमी *
surenderpal vaidya
मैं जान लेना चाहता हूँ
मैं जान लेना चाहता हूँ
Ajeet Malviya Lalit
जो हमने पूछा कि...
जो हमने पूछा कि...
Anis Shah
कोई पूछे की ग़म है क्या?
कोई पूछे की ग़म है क्या?
Ranjana Verma
मानवीय संवेदना बनी रहे
मानवीय संवेदना बनी रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...