Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2024 · 1 min read

जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।

जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
बाली वध कर सुग्रीव सखा को पंपा पुर का ताज दिया।।
जिसने जो मांगा दिया प्रभु ने नहीं निराश हुआ कोई।
वंचित शोषित समाज को बनवासी बनकर आवाज दिया।।
नवधा भक्ति प्रेम से प्रभु ने मां सबरी को सिखलाई।
सोया भारत फिर जाग रहा ले रहा सनातन अंगड़ाई।।
🌹जय श्री राम🌹

3 Likes · 125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बचपन की यादों को यारो मत भुलना
बचपन की यादों को यारो मत भुलना
Ram Krishan Rastogi
ज़िंदगी मेरी दर्द की सुनामी बनकर उभरी है
ज़िंदगी मेरी दर्द की सुनामी बनकर उभरी है
Bhupendra Rawat
* नाम रुकने का नहीं *
* नाम रुकने का नहीं *
surenderpal vaidya
*बुखार ही तो है (हास्य व्यंग्य)*
*बुखार ही तो है (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
Chubhti hai bate es jamane ki
Chubhti hai bate es jamane ki
Sadhna Ojha
लग जाए गले से गले
लग जाए गले से गले
Ankita Patel
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
2832. *पूर्णिका*
2832. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पराक्रम दिवस
पराक्रम दिवस
Bodhisatva kastooriya
बाल कविता: बंदर मामा चले सिनेमा
बाल कविता: बंदर मामा चले सिनेमा
Rajesh Kumar Arjun
डोमिन ।
डोमिन ।
Acharya Rama Nand Mandal
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
पूर्वार्थ
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
Sanjay ' शून्य'
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
Manisha Manjari
संगठन
संगठन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तनख्वाह मिले जितनी,
तनख्वाह मिले जितनी,
Satish Srijan
एक दिन की बात बड़ी
एक दिन की बात बड़ी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
फितरत
फितरत
पूनम झा 'प्रथमा'
जरासन्ध के पुत्रों ने
जरासन्ध के पुत्रों ने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
राज जिन बातों में था उनका राज ही रहने दिया
राज जिन बातों में था उनका राज ही रहने दिया
कवि दीपक बवेजा
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
🌺प्रेम कौतुक-191🌺
🌺प्रेम कौतुक-191🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
श्रीजन के वास्ते आई है धरती पर वो नारी है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
स्वयं छुरी से चीर गल, परखें पैनी धार ।
स्वयं छुरी से चीर गल, परखें पैनी धार ।
Arvind trivedi
अध्यात्म का शंखनाद
अध्यात्म का शंखनाद
Dr.Pratibha Prakash
संघर्ष हमारा जीतेगा,
संघर्ष हमारा जीतेगा,
Shweta Soni
■ सामयिक आलेख-
■ सामयिक आलेख-
*Author प्रणय प्रभात*
*****देव प्रबोधिनी*****
*****देव प्रबोधिनी*****
Kavita Chouhan
Loading...