Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2023 · 1 min read

जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।

जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
जन -गण गान करे इसका, सच में कितना सुखदायक है।।
परम प्रतिष्ठित श्रेष्ठ मनोहर, जन्म लिये स्व राम यहाँ।
मुकुट हिमालय शोभित सुंदर, नैतिकता परिचायक है।
नीलम शर्मा ✍️

399 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संत कबीर
संत कबीर
Lekh Raj Chauhan
फितरत................एक आदत
फितरत................एक आदत
Neeraj Agarwal
हमें उससे नहीं कोई गिला भी
हमें उससे नहीं कोई गिला भी
Irshad Aatif
रंगों के पावन पर्व होली की आप सभी को हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभ
रंगों के पावन पर्व होली की आप सभी को हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभ
आर.एस. 'प्रीतम'
शहीद की पत्नी
शहीद की पत्नी
नन्दलाल सुथार "राही"
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
Shweta Soni
" अकेलापन की तड़प"
Pushpraj Anant
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
Vishal babu (vishu)
"ऐसा है अपना रिश्ता "
Yogendra Chaturwedi
💐Prodigy Love-7💐
💐Prodigy Love-7💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
घबराना हिम्मत को दबाना है।
घबराना हिम्मत को दबाना है।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2802. *पूर्णिका*
2802. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#गौरवमयी_प्रसंग
#गौरवमयी_प्रसंग
*Author प्रणय प्रभात*
फौजी की पत्नी
फौजी की पत्नी
लक्ष्मी सिंह
निकले थे चांद की तलाश में
निकले थे चांद की तलाश में
Dushyant Kumar Patel
నా గ్రామం
నా గ్రామం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सब्र का बांँध यदि टूट गया
सब्र का बांँध यदि टूट गया
Buddha Prakash
धरती करें पुकार
धरती करें पुकार
नूरफातिमा खातून नूरी
जिंदगी
जिंदगी
sushil sarna
ना जाने क्यों...?
ना जाने क्यों...?
भवेश
डर डर के उड़ रहे पंछी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
अब तो गिरगिट का भी टूट गया
अब तो गिरगिट का भी टूट गया
Paras Nath Jha
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
Phool gufran
एक समय वो था
एक समय वो था
Dr.Rashmi Mishra
दीवाली की रात आयी
दीवाली की रात आयी
Sarfaraz Ahmed Aasee
*माहेश्वर तिवारी जी: शत-शत नमन (कुंडलिया)*
*माहेश्वर तिवारी जी: शत-शत नमन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चाहती हूं मैं
चाहती हूं मैं
Divya Mishra
अधिकांश होते हैं गुमराह
अधिकांश होते हैं गुमराह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
Ajay Mishra
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
Loading...