Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2024 · 1 min read

जन्म से मरन तक का सफर

❤️जन्म से मरन तक का सफर❤️
जब हम दुनिया में आते हैं
आँखों में बस आँसू ही लाते हैं,
होते हैं जब हम पैदा
मुस्कुराने की बजाए ,हम रोते हैं,
लेकिन हमें देखकर सब खुश होते हैं।
सुनकर हमारी किलकारियां सबके चेहरे खिलते हैं,
धीरे धीरे फिर हम चलना और
अपने हाथों से खाना सीखते हैं,
फिर जाते हैं स्कूल और अध्यापकों से पढ़ना सीखते हैं,
करके विद्या पूरी ग्रहण फिर हम नौकरी की तालाश में निकलते हैं,
ऐसे ही धीरे धीरे फिर हम ज़िम्मेदारी संभालना सीखते हैं,
हो जाती है फिर जब शादी तो बहुत अरमान दिल में दबाना सीखते हैं,
फिर अपने बच्चों को पढ़ाना, संस्कार देना और उनकी ज़िम्मेदारी संभालना सीखते हैं,
ऐसे ही फिर बुढ़ापा आ जाता है
फिर वह भी हमें बहुत कुछ सीखा जता है,
यदि बच्चे अच्छे निकले तो बुढ़ापा खुशी खुशी साल दो साल और बढ़ जाता है,
और यदि बच्चे अच्छे न निकले तो ज़िन्दगी का समय घट जाता है।
ऐसे ही फिर हमारे ज़िन्दगी का अंत हो जाता है,
और फिर इस दुनिया में बस हमारा नाम ही रह जाता है।

यही है ज़िन्दगी मेरे दोस्त ,
जो जन्म से लेकर मरन तक
बहुत कुछ सीखा जाता है।
बहुत कुछ सीखा जाता है

Tag: Poem
65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
पूर्वार्थ
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
हमें लिखनी थी एक कविता
हमें लिखनी थी एक कविता
shabina. Naaz
संघर्ष की राहों पर जो चलता है,
संघर्ष की राहों पर जो चलता है,
Neelam Sharma
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
जीवन कभी गति सा,कभी थमा सा...
Santosh Soni
*अपनी-अपनी चमक दिखा कर, सबको ही गुम होना है (मुक्तक)*
*अपनी-अपनी चमक दिखा कर, सबको ही गुम होना है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
यायावर
यायावर
Satish Srijan
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ओनिका सेतिया 'अनु '
सन्तानों  ने  दर्द   के , लगा   दिए    पैबंद ।
सन्तानों ने दर्द के , लगा दिए पैबंद ।
sushil sarna
"अग्निस्नान"
Dr. Kishan tandon kranti
अगर मेरी मोहब्बत का
अगर मेरी मोहब्बत का
श्याम सिंह बिष्ट
अधि वर्ष
अधि वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
बाल बिखरे से,आखें धंस रहीं चेहरा मुरझाया सा हों गया !
The_dk_poetry
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
Manisha Manjari
💐प्रेम कौतुक-318💐
💐प्रेम कौतुक-318💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – ईश्वर का संकेत और नारायण का गृहत्याग – 03
शिवाजी गुरु समर्थ रामदास – ईश्वर का संकेत और नारायण का गृहत्याग – 03
Sadhavi Sonarkar
भगोरिया पर्व नहीं भौंगर्या हाट है, आदिवासी भाषा का मूल शब्द भौंगर्यु है जिसे बहुवचन में भौंगर्या कहते हैं। ✍️ राकेश देवडे़ बिरसावादी
भगोरिया पर्व नहीं भौंगर्या हाट है, आदिवासी भाषा का मूल शब्द भौंगर्यु है जिसे बहुवचन में भौंगर्या कहते हैं। ✍️ राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
मन मेरे तू सावन सा बन....
मन मेरे तू सावन सा बन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
ठण्डी राख़ - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
" मुझे सहने दो "
Aarti sirsat
सिर्फ तुम्हारे खातिर
सिर्फ तुम्हारे खातिर
gurudeenverma198
मैं लिखूंगा तुम्हें
मैं लिखूंगा तुम्हें
हिमांशु Kulshrestha
3279.*पूर्णिका*
3279.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पाप का जब भरता है घड़ा
पाप का जब भरता है घड़ा
Paras Nath Jha
भारत का सिपाही
भारत का सिपाही
आनन्द मिश्र
तुमने देखा ही नहीं
तुमने देखा ही नहीं
Surinder blackpen
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
surenderpal vaidya
वीर तुम बढ़े चलो...
वीर तुम बढ़े चलो...
आर एस आघात
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रास्तों पर चलने वालों को ही,
रास्तों पर चलने वालों को ही,
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
Loading...