Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2022 · 1 min read

जगदम्बा के स्वागत में आँखें बिछायेंगे।

जगदम्बा के स्वागत में आँखें बिछायेंगे,
और उन्हीं नज़रों से जाने कितनी स्त्रियों को शर्मिंदा कर जायेंगे।
समाज़ के कुछ ठेकेदार ऐसे भी हैं, जो माँ पे तो हक़ जमायेंगे,
और उनकी हीं बेटियों को, जलती चिता के हवाले कर जायेंगे।
माँ के चरणों में दण्डवत शीश नवायेंगे,
और उसकी परछाईयों को अपने कदमों तले रौंद जायेंगे।
छप्पन भोगों की थाल से माँ को भोग लगायेंगे,
और कितने हीं बेबसों के मुँह से निवाले तक छीन जायेंगे।
आभूषण और वस्त्रों से माँ की मूरत की शोभा बढ़ायेंगे,
और शब्दों को निर्वस्त्र कर, कितनी हीं स्त्रियों का चीरहरण कर जायेंगे।
अपनी भक्ति का प्रदर्शन कर, माँ को दस दिनों तक रिझायेंगे,
और जन्मदायिनी माँ को, वृद्धाश्रम की राह में छोड़ जायेंगे,
अपनी आस्था का दीपक, माता के मंदिर में हर रोज़ जलायेंगे,
पर अपने मन के अंधेरों से, कितने हीं घरों में अमावस कर जायेंगे।
ढोल-नगाड़ों के साथ माँ की आरती, चीख़-चीख़ कर गायेंगे,
और स्त्रियों की आवाज़ दबाने को, उनका गला तक घोंट जायेंगे।
जो स्त्री के अस्त्तित्व को भी नकार जाती है,
क्यों ना इस नवरात्र उस मानसिकता की हीं बलि चढ़ायेंगे।
हर स्त्री उसी माँ का तो अंश-रूप है,
क्यों ना इस बार उनकी संवेदनाओं को स्वयं के हृदय में जगायेंगे।

5 Likes · 10 Comments · 793 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
इतना ही बस रूठिए , मना सके जो कोय ।
इतना ही बस रूठिए , मना सके जो कोय ।
Manju sagar
आजादी का
आजादी का "अमृत महोत्सव"
राकेश चौरसिया
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
पूर्वार्थ
पलटे नहीं थे हमने
पलटे नहीं थे हमने
Dr fauzia Naseem shad
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
ज़ीस्त के तपते सहरा में देता जो शीतल छाया ।
Neelam Sharma
*आते बारिश के मजे, गरम पकौड़ी संग (कुंडलिया)*
*आते बारिश के मजे, गरम पकौड़ी संग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
फ़ितरत अपनी अपनी...
फ़ितरत अपनी अपनी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आपका बुरा वक्त
आपका बुरा वक्त
Paras Nath Jha
*प्रेम भेजा  फ्राई है*
*प्रेम भेजा फ्राई है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पास नहीं
पास नहीं
Pratibha Pandey
"बन्दगी" हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
कवि रमेशराज
मूर्ख जनता-धूर्त सरकार
मूर्ख जनता-धूर्त सरकार
Shekhar Chandra Mitra
*
*"संकटमोचन"*
Shashi kala vyas
* शक्ति आराधना *
* शक्ति आराधना *
surenderpal vaidya
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
सौरभ पाण्डेय
#तस्वीर_पर_शेर:--
#तस्वीर_पर_शेर:--
*Author प्रणय प्रभात*
तुम जिसे झूठ मेरा कहते हो
तुम जिसे झूठ मेरा कहते हो
Shweta Soni
हमदम का साथ💕🤝
हमदम का साथ💕🤝
डॉ० रोहित कौशिक
"कोढ़े की रोटी"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
Phool gufran
2812. *पूर्णिका*
2812. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फन कुचलने का हुनर भी सीखिए जनाब...!
फन कुचलने का हुनर भी सीखिए जनाब...!
Ranjeet kumar patre
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
SHAILESH MOHAN
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
करवा चौथ
करवा चौथ
नवीन जोशी 'नवल'
जब सहने की लत लग जाए,
जब सहने की लत लग जाए,
शेखर सिंह
बात खो गई
बात खो गई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Loading...