Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2024 · 1 min read

*छ्त्तीसगढ़ी गीत*

छ्त्तीसगढ़ी गीत
हमरो ये जिनगी बन जाही
22 22 22 22
हमरो ये जिनगी बन जाही ।
सुघ्घर नवा बिहनिया आही ।।
कुहकत कोइली मनला मोहे।
महकत बगिया सबला सोहे।
नेक हमर दुनिया बन जाही ।।
हमरो ये जिनगी ……..
हिरदे के पीरा ला मन हा मानथे।
सुख दुख ला जन जन हा जानथे।
देख खुसी के संगी सगरी बन जाही ।।
हमरो ये जिनगी …….
अंधियारी अंजोरी सिरतोन लबारी।
बंधाय रथे मया पीरित के चिंहारी ।
सिरतोन सुनता के दिन बादर बन जाही ।
हमरो ये जिनगी ……..
…….✍ डॉ .खेदू भारती “सत्येश”
19-01-2024शुक्रवार

85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मंजिल
मंजिल
Swami Ganganiya
सफल लोगों की अच्छी आदतें
सफल लोगों की अच्छी आदतें
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
डा. तुलसीराम और उनकी आत्मकथाओं को जैसा मैंने समझा / © डा. मुसाफ़िर बैठा
डा. तुलसीराम और उनकी आत्मकथाओं को जैसा मैंने समझा / © डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
कल हमारे साथ जो थे
कल हमारे साथ जो थे
ruby kumari
अपना घर
अपना घर
ओंकार मिश्र
You do NOT need to take big risks to be successful.
You do NOT need to take big risks to be successful.
पूर्वार्थ
सपना
सपना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"'मोम" वालों के
*Author प्रणय प्रभात*
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
सुन लेते तुम मेरी सदाएं हम भी रो लेते
Rashmi Ranjan
इश्क का तोता
इश्क का तोता
Neelam Sharma
तू है तो फिर क्या कमी है
तू है तो फिर क्या कमी है
Surinder blackpen
"सूनी मांग" पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
"अहसास मरता नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
फकीरी
फकीरी
Sanjay ' शून्य'
मूर्दन के गांव
मूर्दन के गांव
Shekhar Chandra Mitra
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"यादें अलवर की"
Dr Meenu Poonia
तुमको खोकर इस तरहां यहाँ
तुमको खोकर इस तरहां यहाँ
gurudeenverma198
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
जूता
जूता
Ravi Prakash
पर्वत दे जाते हैं
पर्वत दे जाते हैं
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
प्यार ना सही पर कुछ तो था तेरे मेरे दरमियान,
प्यार ना सही पर कुछ तो था तेरे मेरे दरमियान,
Vishal babu (vishu)
जख्म भरता है इसी बहाने से
जख्म भरता है इसी बहाने से
Anil Mishra Prahari
अधूरे सवाल
अधूरे सवाल
Shyam Sundar Subramanian
आँख
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
झंझा झकोरती पेड़ों को, पर्वत निष्कम्प बने रहते।
झंझा झकोरती पेड़ों को, पर्वत निष्कम्प बने रहते।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मनांतर🙏
मनांतर🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
3187.*पूर्णिका*
3187.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मां बेटी
मां बेटी
Neeraj Agarwal
Loading...