Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2022 · 1 min read

छोटे गाँव का लड़का था मैं

छोटे गाँव का लड़का था मैं
वो बड़े शहर वालीं थी
सपने थे छोटे मेरे
वो आसमान को चाहती थी

बाहर से जैसी दिखती वो
अंदर भी वैसी रहती थी
पहनती थी simple कपड़े बहुत
चेहरे पर सादगी सजती थी

बड़ी-बड़ी कठिनाईयों का मैं
हंसकर कर सामना करता था
छोटी-छोटी मुश्किलों से वो
एकदम घबरा जाती थी

गाँव का ग्वार था मैं
वो शहर की सयानी थी
करता मैं राम-राम सबको
वो हैलो नमस्ते वाली थी

मैं गाँव की गालियों में घूमता
वो महलों में रहती थी
खूब पसन्द था मुझे दाल-भात
वो पिज्जा खाया करती थी

मन था उसको मित्र बनाऊं
पर न करके वो चली गई
क्यूँ कि !
छोटे गाँव का लड़का था मैं
वो बड़े शहर वालीं थी !

✍️ The_dk_poetry

3 Likes · 2 Comments · 359 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
#परिहास-
#परिहास-
*Author प्रणय प्रभात*
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
छिपकली बन रात को जो, मस्त कीड़े खा रहे हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
"अमीर"
Dr. Kishan tandon kranti
और भी हैं !!
और भी हैं !!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
Harminder Kaur
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बहुत नफा हुआ उसके जाने से मेरा।
बहुत नफा हुआ उसके जाने से मेरा।
शिव प्रताप लोधी
****🙏🏻आह्वान🙏🏻****
****🙏🏻आह्वान🙏🏻****
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
बाबू जी
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मां का दर रहे सब चूम
मां का दर रहे सब चूम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मॉडर्न किसान
मॉडर्न किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
umesh mehra
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Srishty Bansal
सनम
सनम
Satish Srijan
चांद कहां रहते हो तुम
चांद कहां रहते हो तुम
Surinder blackpen
क्या ढूढे मनुवा इस बहते नीर में
क्या ढूढे मनुवा इस बहते नीर में
rekha mohan
बना एक दिन वैद्य का
बना एक दिन वैद्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
2305.पूर्णिका
2305.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तारीफ क्या करूं,तुम्हारे शबाब की
तारीफ क्या करूं,तुम्हारे शबाब की
Ram Krishan Rastogi
AGRICULTURE COACHING CHANDIGARH
AGRICULTURE COACHING CHANDIGARH
★ IPS KAMAL THAKUR ★
वक्त गुजर जायेगा
वक्त गुजर जायेगा
Sonu sugandh
वह कौन सा नगर है ?
वह कौन सा नगर है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अन्त हुआ आतंक का,
अन्त हुआ आतंक का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जब भी दिल का
जब भी दिल का
Neelam Sharma
* विजयदशमी मनाएं हम *
* विजयदशमी मनाएं हम *
surenderpal vaidya
💐Prodigy Love-15💐
💐Prodigy Love-15💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्यार है,पावन भी है ।
प्यार है,पावन भी है ।
Dr. Man Mohan Krishna
फ़रियाद
फ़रियाद
VINOD CHAUHAN
Loading...