Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2023 · 1 min read

” छोटा सिक्का”

” छोटा सिक्का”
खेल खेल और दिन भर की मस्ती में
छीना झपटी में होता है ऐसा भी तो
छूटता जब हाथ से खनक कर तब
छम छम नाच दिखाता छोटा सिक्का,
जहां लें सामान वहीं खुल्ले पैसे मांगते
परचून की दुकान की है आवश्यकता
दान पेटियों में बहुतायत में है मिलता
दन दन दनदनाता है छोटा सिक्का,
छोटे बड़े आकार और भिन्न प्रकार हैं
रंग रूप में आजकल अलग दिखता
सुनहरा रंग सबकी आंखो को सुहाता
चम चम चमचमाता है छोटा सिक्का,
बाल मन के गुल्लक की शोभा बढ़ाता
पॉकेट में डालें तब खन खन है बजता
रानू रोमी की तिजोरी का तो हीरा है ये
बच्चों का मन लुभाता छोटा सिक्का।

Language: Hindi
1 Like · 423 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
मैं सोच रही थी...!!
मैं सोच रही थी...!!
Rachana
मन मूरख बहुत सतावै
मन मूरख बहुत सतावै
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
Kshma Urmila
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
नूरफातिमा खातून नूरी
*कंचन काया की कब दावत होगी*
*कंचन काया की कब दावत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वृद्धाश्रम इस समस्या का
वृद्धाश्रम इस समस्या का
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Mahender Singh
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
Manisha Manjari
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
Kumud Srivastava
🙅दद्दू कहिन🙅
🙅दद्दू कहिन🙅
*प्रणय प्रभात*
रात नहीं आती
रात नहीं आती
Madhuyanka Raj
मानवता
मानवता
Rahul Singh
अपनी सत्तर बरस की मां को देखकर,
अपनी सत्तर बरस की मां को देखकर,
Rituraj shivem verma
2507.पूर्णिका
2507.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*कर्ज लेकर एक तगड़ा, बैंक से खा जाइए 【हास्य हिंदी गजल/गीतिका
*कर्ज लेकर एक तगड़ा, बैंक से खा जाइए 【हास्य हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
अमृतकलश
अमृतकलश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
The_dk_poetry
*अद्वितीय गुणगान*
*अद्वितीय गुणगान*
Dushyant Kumar
"करिए ऐसे वार"
Dr. Kishan tandon kranti
आवाज़
आवाज़
Adha Deshwal
बेटी
बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
बालचंद झां (हल्के दाऊ)
Ms.Ankit Halke jha
बिना मांगते ही खुदा से
बिना मांगते ही खुदा से
Shinde Poonam
लक्ष्मी-पूजन
लक्ष्मी-पूजन
कवि रमेशराज
हिंदी हमारी मातृभाषा --
हिंदी हमारी मातृभाषा --
Seema Garg
हे प्रभु !
हे प्रभु !
Shubham Pandey (S P)
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
ललकार भारद्वाज
Loading...