Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

*छल-कपट को बीच में, हर्गिज न लाना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*

छल-कपट को बीच में, हर्गिज न लाना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】
■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
छल-कपट को बीच में, हर्गिज न लाना चाहिए
प्यार से ही प्यार का, रिश्ता निभाना चाहिए
(2)
नफरतों से क्या मिलेगा, रात-दिन जो कर रहे
खून अपना यों नहीं, हर्गिज जलाना चाहिए
(3)
युद्ध करने से जरूरी तो नहीं यह जीत हो
मित्रता की राह को भी, आजमाना चाहिए
(4)
भाग्य के हाथों बँधी है, आदमी की जिंदगी
जो मिले परिणाम चाहे, मुस्कुराना चाहिए
(5)
नेता समझने न लगें, खुद को नवाबों की तरह
हेकड़ी जिसमें लगे, उस को हराना चाहिए
—————————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उ.प्र.
मोबाइल 99976 15451

449 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
शब्द -शब्द था बोलता,
शब्द -शब्द था बोलता,
sushil sarna
रिश्तों के मायने
रिश्तों के मायने
Rajni kapoor
पुनर्जन्म का साथ
पुनर्जन्म का साथ
Seema gupta,Alwar
*है गृहस्थ जीवन कठिन
*है गृहस्थ जीवन कठिन
Sanjay ' शून्य'
“गर्व करू, घमंड नहि”
“गर्व करू, घमंड नहि”
DrLakshman Jha Parimal
उजालों में अंधेरों में, तेरा बस साथ चाहता हूँ
उजालों में अंधेरों में, तेरा बस साथ चाहता हूँ
डॉ. दीपक मेवाती
*शिवाजी का आह्वान*
*शिवाजी का आह्वान*
कवि अनिल कुमार पँचोली
गुस्सा
गुस्सा
Sûrëkhâ
खंडकाव्य
खंडकाव्य
Suryakant Dwivedi
में बेरोजगारी पर स्वार
में बेरोजगारी पर स्वार
भरत कुमार सोलंकी
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
सबक ज़िंदगी पग-पग देती, इसके खेल निराले हैं।
आर.एस. 'प्रीतम'
पति
पति
लक्ष्मी सिंह
" *लम्हों में सिमटी जिंदगी* ""
सुनीलानंद महंत
मां कात्यायनी
मां कात्यायनी
Mukesh Kumar Sonkar
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
Jyoti Khari
मुझको तो घर जाना है
मुझको तो घर जाना है
Karuna Goswami
2338.पूर्णिका
2338.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
Sukoon
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
Phool gufran
*🌸बाजार *🌸
*🌸बाजार *🌸
Mahima shukla
शक्तिशाली
शक्तिशाली
Raju Gajbhiye
अक्षय चलती लेखनी, लिखती मन की बात।
अक्षय चलती लेखनी, लिखती मन की बात।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"समझ का फेर"
Dr. Kishan tandon kranti
मेघों का इंतजार है
मेघों का इंतजार है
VINOD CHAUHAN
चिंतन और अनुप्रिया
चिंतन और अनुप्रिया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
योग्यता व लक्ष्य रखने वालों के लिए अवसरों व आजीविका की कोई क
योग्यता व लक्ष्य रखने वालों के लिए अवसरों व आजीविका की कोई क
*Author प्रणय प्रभात*
वक़्त वो सबसे ही जुदा होगा
वक़्त वो सबसे ही जुदा होगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
परिवर्तन विकास बेशुमार🧭🛶🚀🚁
परिवर्तन विकास बेशुमार🧭🛶🚀🚁
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिल में एहसास
दिल में एहसास
Dr fauzia Naseem shad
Loading...