Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

छप्पन भोग

सादा जीवन जी रहे,
ऊँचे कद के लोग।
जमकर खूब उड़ा रहे,
भूखे छप्पन भोग।

Language: Hindi
222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
डी. के. निवातिया
सहारा
सहारा
Neeraj Agarwal
ज़िंदगी  ने  अब  मुस्कुराना  छोड़  दिया  है
ज़िंदगी ने अब मुस्कुराना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
मेरी बिटिया
मेरी बिटिया
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*उधो मन न भये दस बीस*
*उधो मन न भये दस बीस*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ परिंदें।
कुछ परिंदें।
Taj Mohammad
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
★ IPS KAMAL THAKUR ★
प्रदीप छंद
प्रदीप छंद
Seema Garg
यायावर
यायावर
Satish Srijan
मै बेरोजगारी पर सवार हु
मै बेरोजगारी पर सवार हु
भरत कुमार सोलंकी
संदेह से बड़ा
संदेह से बड़ा
Dr fauzia Naseem shad
दोहा पंचक. . . नैन
दोहा पंचक. . . नैन
sushil sarna
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
नूरफातिमा खातून नूरी
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
Atul "Krishn"
परोपकार
परोपकार
Raju Gajbhiye
"संवाद"
Dr. Kishan tandon kranti
3201.*पूर्णिका*
3201.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Harminder Kaur
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
ग़ज़ल/नज़्म - उसका प्यार जब से कुछ-कुछ गहरा हुआ है
अनिल कुमार
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
Buddha Prakash
Quote Of The Day
Quote Of The Day
Saransh Singh 'Priyam'
*रक्तदान*
*रक्तदान*
Dushyant Kumar
चन्द्रयान अभियान
चन्द्रयान अभियान
surenderpal vaidya
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
छोड़ गया था ना तू, तो अब क्यू आया है
Kumar lalit
कविता
कविता
Shiva Awasthi
मेरी अना को मेरी खुद्दारी कहो या ज़िम्मेदारी,
मेरी अना को मेरी खुद्दारी कहो या ज़िम्मेदारी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
खुद के प्रति प्रतिबद्धता
खुद के प्रति प्रतिबद्धता
लक्ष्मी सिंह
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
Vishal babu (vishu)
मैं लिखूंगा तुम्हें
मैं लिखूंगा तुम्हें
हिमांशु Kulshrestha
Loading...