Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2018 · 2 min read

छंद कुण्डलिया : कितना मँहगा वोट…..

चुनावी कुण्डलिया छंद :
_________________________________
(१)
पंजा थामे साइकिल, सधी कमल की चाल.
इंजन सीटी दे रहा, हाथी करे धमाल.
हाथी करे धमाल, दौड़ता आगे-आगे.
ले अंकुश वह देख, महावत पीछे भागे.
आश्वासन दें उगा, शीश भी है यह गंजा,
मत चुपड़ें अब तेल, अधिक मत फेरें पंजा..
_______________________________________
(२)
नेता चीनी में पगे, मीठे मीठे बोल.
आश्वासन जो दे रहे, मधुर चाशनी घोल.
मधुर चाशनी घोल, सभी को हैं तैराते.
बेसुध हो हो लोग, वोट अपना दे आते.
हो जाता वह पार, नाव जो खुद ही खेता.
नित्य रचाए स्वांग, हुआ अभिनेता नेता..
_______________________________________
(३)
मतदाता के सामने, हाथ जोड़कर यार.
चिपका देते पम्फलेट, झेल रही दीवार.
झेल रही दीवार, व्यथित जब उसे छुड़ाये .
तब कागज़ के साथ, पेंट तक उखड़ा आये.
खर्चा साठ हजार, सोंच माथा झन्नाता,
कितना मँहगा वोट, दुखी सोंचे मतदाता..
_______________________________________

(४)
सेवा का वादा करें, ले विकास का चित्र.
प्रत्याशी अधिकाँश पर, मेवा चाहें मित्र.
मेवा चाहें मित्र, परखकर ही पहचानें,
अवसरवादी व्यक्ति, फँसा लेता है जानें,
स्वार्थ लोभ में फँसे, भ्रमित मन जो हे देवा,
उस पर कसें लगाम, तभी हो पाये सेवा.
_______________________________________

(५)
आया पर्व चुनाव का, रही चाशनी खौल.
मीठी गुझिया बँट रही, होली सा माहौल.
होली सा माहौल, लगा हर रँग में गोता.
आ जुटते हैं लोग, भ्रमण घर-घर है होता.
ले ‘अम्बर’ की भांग, चुनावी देखें माया.
सबसे पहले वोट, डालिए अवसर आया..
__________________________________________
(६)
आया समय चुनाव का, करना है मतदान.
वोट फलां को दीजिये, होती खींचतान.
होती खींचातान, सिफारिश भी मत मानें.
ठोंक बजा लें देख, व्यक्ति को ही पहचानें.
पांच साल तक चुके, भुगत भ्रष्टों की माया.
दरकिनार कर उन्हें उचित चुनिए जो आया..
______________________________________
(७)
मतदाता निकलें सभी सारे डालें वोट.
तभी साफ हो गंदगी, साथ हटेगी खोट.
साथ हटेगी खोट, अगर दृढ़ निश्चय होगा.
उससे होगी मुक्ति, रोग जो सबने भोगा.
जो होगा उपयुक्त, खुलेगा उसका खाता.
पुनः लीजिये जान, बड़ा सबसे मतदाता..
______________________________________
–छंदकार: इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’
______________________________________

268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अब तो  सब  बोझिल सा लगता है
अब तो सब बोझिल सा लगता है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
किताबें पूछती है
किताबें पूछती है
Surinder blackpen
लोग जाने किधर गये
लोग जाने किधर गये
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सहधर्मिणी
सहधर्मिणी
Bodhisatva kastooriya
गीतिका-
गीतिका-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
खोट
खोट
GOVIND UIKEY
घंटा हिलाने वाली कौमें
घंटा हिलाने वाली कौमें
Shekhar Chandra Mitra
पहले क्यों तुमने, हमको अपने दिल से लगाया
पहले क्यों तुमने, हमको अपने दिल से लगाया
gurudeenverma198
"चुनाव के दौरान नेता गरीबों के घर खाने ही क्यों जाते हैं, गर
दुष्यन्त 'बाबा'
2618.पूर्णिका
2618.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
रमेशराज के त्योहार एवं अवसरविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
Raju Gajbhiye
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
साधना से सिद्धि.....
साधना से सिद्धि.....
Santosh Soni
"नारियल"
Dr. Kishan tandon kranti
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
गांव की सैर
गांव की सैर
जगदीश लववंशी
खिलौनो से दूर तक
खिलौनो से दूर तक
Dr fauzia Naseem shad
"जिंदगी"
नेताम आर सी
युवा दिवस
युवा दिवस
Tushar Jagawat
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हम तो फ़िदा हो गए उनकी आँखे देख कर,
हम तो फ़िदा हो गए उनकी आँखे देख कर,
Vishal babu (vishu)
■ कामयाबी का नुस्खा...
■ कामयाबी का नुस्खा...
*Author प्रणय प्रभात*
चलो
चलो
हिमांशु Kulshrestha
सच
सच
Sanjay ' शून्य'
Loading...