Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Oct 2016 · 2 min read

चोट

चोट
_____________________________________________________________________________________________________________________

बेटा जवान हो गया था, अब उनका। बहुत लालसा पाल कर रखी थी, उसने। काफी संघर्षमय जिंदगी उनकी गुजरी थी। पर हाय, उनके सपने चूर-चूर हो गये थे। पति की लताड़ तो उन्‍हें मिलती ही थी, बेटे भी अपमानित करने का कोई कोर कसर बाकी नहीं रख रहा था।

सुनीता के बाल्‍यावस्‍था में ही उनके पिता की म़ृत्‍यु हो गई थी। बड़ी बेटी थी, अपने माता-पिता की वह। काफी संघर्षों से उनकी जिंदगी गुजरी थी।

माई ने जोड़-तंगेड़ कर कुछ रूपये इकट्ठा कर रख्खी थी। दुख के समय में भी कई सांझ भूखे रहकर पछबरिया बाध वाली खेत बचा कर रखी थी। एक बीघा खेत था, उनके पास। जमीन बेचकर बेटी सुनीता की शादी अच्‍छे घराने में कर दी थी। यह सोचकर कि बेटी ससुरारी में सुख भोगेगी।

पर सुनीता को ससुराल में सब दिन बात और लात ही मिला। यहां नैहर की तरह भी खेतों में मजदूरी करने के लिए जाना होता था। ससुराल की स्थिति भी ठीक नहीं था। शायद सुनीता की मां, ब्‍याह कराने में ठगा गई थी। सुनीता का एक साल बाद ही गोद में एक बेटा मिल गया। उसने ठान ली कि बेटे को पढ़ा लिखाकर बुद्धिमान बनाउंगी। पढ़ लिखकर अच्‍छी नौकरी मिल जायेगी तो बुढ़ारी में अच्‍छे से देखभाल करेगा उनका।

बेटा पढ़ लिखकर नौकरी भी प्राप्‍त कर लिया।

उसने उस दिन बेटा को बस इतना ही तो कहा कि बेटे अब हमको भी अपने ही साथ ले चलो। अब समांग साथ नहीं दे रहा है, मेरा। अब मजदूरी नहीं हो पाता है, हमसे। इतना पर ही बेटा तमतमा गया था और माय पर गुस्‍सा झाड़ते ही शहर की ओर यह कहकर चल दिया कि अब मैं दुबारा यहां पैर नहीं रखूंगा। बेटे को वह रोकने का काफी प्रयास की। पर उनके द्वारा दिये गये एक धक्‍के से गिर पड़ी थी और आंखों से अश्रुधारा बहने लगी थी। शारीरिक चोट से अधिक मानसिक चोट ने उनका हृदयाघात कर दिया था।

————————————————————- मनहरण

Language: Hindi
252 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिन्दी दोहे- इतिहास
हिन्दी दोहे- इतिहास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बदलते दौर में......
बदलते दौर में......
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
Vishal babu (vishu)
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
Shashi kala vyas
यादों को याद करें कितना ?
यादों को याद करें कितना ?
The_dk_poetry
बे-आवाज़. . . .
बे-आवाज़. . . .
sushil sarna
💐प्रेम कौतुक-409💐
💐प्रेम कौतुक-409💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Sakshi Tripathi
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
"भलाई"
Dr. Kishan tandon kranti
अरमान
अरमान
Kanchan Khanna
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
नर्क स्वर्ग
नर्क स्वर्ग
Bodhisatva kastooriya
आप जब तक दुःख के साथ भस्मीभूत नहीं हो जाते,तब तक आपके जीवन क
आप जब तक दुःख के साथ भस्मीभूत नहीं हो जाते,तब तक आपके जीवन क
Shweta Soni
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
क्या यही है हिन्दी-ग़ज़ल? *रमेशराज
कवि रमेशराज
2597.पूर्णिका
2597.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
Paras Nath Jha
*मतदान-त्यौहार 【कुंडलिया】*
*मतदान-त्यौहार 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
जब जब तुझे पुकारा तू मेरे करीब हाजिर था,
Sukoon
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
पूर्वार्थ
प्यार की दिव्यता
प्यार की दिव्यता
Seema gupta,Alwar
# जय.….जय श्री राम.....
# जय.….जय श्री राम.....
Chinta netam " मन "
■ दोहे फागुन के...
■ दोहे फागुन के...
*Author प्रणय प्रभात*
आशा
आशा
Sanjay ' शून्य'
विश्व सिंधु की अविरल लहरों पर
विश्व सिंधु की अविरल लहरों पर
Neelam Sharma
कलम की ताकत और कीमत को
कलम की ताकत और कीमत को
Aarti Ayachit
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मासूमियत
मासूमियत
Punam Pande
Loading...