Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

चैत्र शुक्ल प्रतिपदा

चैत्र शुक्ल प्रतिपदा
चैत्र शुक्ल प्रतिपदा ,
नव संवत्सर की शुरुआत
प्रकृति का पर्व हैं ,
नई कोपले आने का

नया सवेरा होने का ,
नया परिवर्तन लाने का
शुभ संकल्प लेने का ,
नया रचनात्मक करने का

अंधकार को मिटाने का,
नई शक्ति पाने का ,
कड़वी नीम से स्वस्थ रहने का

पतझड़ मौसम से धरती का सजने का
प्रकृति के बदलाव से जीवन चलाने का

ऋतुओं का परिवर्तन वह खुशियों की खुशबू हैं
पेड़-पौधे , पशु-पक्षी , हवा-पानी हमारा प्राण है

घर में धन-धान्य भर गये
हर्षित हो गया किसान
नवं उमंग, नवं चेतना ,
आनंद हो सभी में

प्रकृति की रक्षा करेंगे
परिवर्तन का स्वागत करेंगे
सभी का आदर करेंगे
प्रेम करुणा का भाव जगाऐगें
000
– राजू गजभिये

Language: Hindi
26 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2567.पूर्णिका
2567.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
* कष्ट में *
* कष्ट में *
surenderpal vaidya
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
Dushyant Kumar
पितरों के सदसंकल्पों की पूर्ति ही श्राद्ध
पितरों के सदसंकल्पों की पूर्ति ही श्राद्ध
कवि रमेशराज
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
Aarti sirsat
प्यार जिंदगी का
प्यार जिंदगी का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
Sahil Ahmad
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Love is not about material things. Love is not about years o
Love is not about material things. Love is not about years o
पूर्वार्थ
आदिपुरुष आ बिरोध
आदिपुरुष आ बिरोध
Acharya Rama Nand Mandal
जीवन चक्र
जीवन चक्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
घर हो तो ऐसा
घर हो तो ऐसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
DrLakshman Jha Parimal
*घर आँगन सूना - सूना सा*
*घर आँगन सूना - सूना सा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कभी नजरें मिलाते हैं कभी नजरें चुराते हैं।
कभी नजरें मिलाते हैं कभी नजरें चुराते हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
वर्तमान गठबंधन राजनीति के समीकरण - एक मंथन
वर्तमान गठबंधन राजनीति के समीकरण - एक मंथन
Shyam Sundar Subramanian
!!! नानी जी !!!
!!! नानी जी !!!
जगदीश लववंशी
करे मतदान
करे मतदान
Pratibha Pandey
रात
रात
SHAMA PARVEEN
अछय तृतीया
अछय तृतीया
Bodhisatva kastooriya
आइन-ए-अल्फाज
आइन-ए-अल्फाज
AJAY AMITABH SUMAN
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
Anil Mishra Prahari
एक पिता की पीर को, दे दो कुछ भी नाम।
एक पिता की पीर को, दे दो कुछ भी नाम।
Suryakant Dwivedi
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
Shweta Soni
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Awadhesh Singh
ख्याल (कविता)
ख्याल (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
దేవత స్వరూపం గో మాత
దేవత స్వరూపం గో మాత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*मन के राजा को नमन, मन के मनसबदार (कुंडलिया)*
*मन के राजा को नमन, मन के मनसबदार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जीवन को जीतती हैं
जीवन को जीतती हैं
Dr fauzia Naseem shad
Loading...