Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2016 · 1 min read

चूहा, हाथी और दुल्हन (बाल-कविता)

चूहा, हाथी और दुल्हन (बाल-कविता)
******************************
एक रोज चूहे राजा के दिल नें बात समाई,
अब तो मैं भी जवां हो गया कर लूं एक सगाई.

सोच-विचार गए चूहे जी हाथी भाई के घर,
भैया मेरा ब्याह रचा दो ना भूलूंगा जीवन भर.

हाथी बोला तब चूहे से- देखो चूहे भाई,
जिसने कर ली अपनी शादी उसकी शामत आयी.

चूहा बोला- मुझको अपना मीत समझ कर बोलो,
अच्छी सी इक दुल्हन लाकर रस मेरे जीवन में घोलो.

कई बार हाथी भाई ने चूहे को समझाया,
पर हाथी की बात को चूहा फिर भी समझ न पाया.

चूहे भाई ने हाथी की बात नही जब मानी,
उसको सबक सिखाने की हाथी ने मन में ठानी.

बोला, भाई चलो ठीक है तुम बारात सजाओ,
मैं दुल्हन को अभी सजाऊँ तुम दूल्हा बन कर आओ.

धूम-धड़ाके से पहुंची दुल्हन के घर बारात,
तब चूहे ने बड़े अकड़ कर कही जोर से अपनी बात.

भइया ! शादी से पहले मैं दुल्हन को देखूंगा,
जब मेरे मन को भायेगी तब ही ब्याह करूंगा.

तब चूहे जी बड़ी रौब से पास गए दुल्हन के,
और बढ़ाया हाथ उठाने घूंघट को, बन-ठन के.

घूंघट में बिल्ली मौसी को देख बहुत घबराए,
वापस जा बैठे घोड़ी पर घर को दौड़ लगाए.

**हरीश चन्द्र लोहुमी, लखनऊ (उ॰ प्र॰)**
*********************************************

Language: Hindi
3 Comments · 824 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
Shivam Sharma
ये रंगो सा घुल मिल जाना,वो खुशियों भरा इजहार कर जाना ,फिजाओं
ये रंगो सा घुल मिल जाना,वो खुशियों भरा इजहार कर जाना ,फिजाओं
Shashi kala vyas
जन्नत चाहिए तो जान लगा दे
जन्नत चाहिए तो जान लगा दे
The_dk_poetry
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
gurudeenverma198
3021.*पूर्णिका*
3021.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हक़ीक़त
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
"हास्य कथन "
Slok maurya "umang"
अलसाई शाम और तुमसे मोहब्बत करने की आज़ादी में खुद को ढूँढना
अलसाई शाम और तुमसे मोहब्बत करने की आज़ादी में खुद को ढूँढना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
// प्रीत में //
// प्रीत में //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सुप्रभात प्रिय..👏👏
सुप्रभात प्रिय..👏👏
आर.एस. 'प्रीतम'
मेरे भी अध्याय होंगे
मेरे भी अध्याय होंगे
Suryakant Dwivedi
एक गजल
एक गजल
umesh mehra
నమో సూర్య దేవా
నమో సూర్య దేవా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
गाँव बदलकर शहर हो रहा
गाँव बदलकर शहर हो रहा
रवि शंकर साह
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
Ram Krishan Rastogi
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बन के आंसू
बन के आंसू
Dr fauzia Naseem shad
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
Rj Anand Prajapati
क़यामत
क़यामत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पिता का बेटी को पत्र
पिता का बेटी को पत्र
प्रीतम श्रावस्तवी
चुनाव फिर आने वाला है।
चुनाव फिर आने वाला है।
नेताम आर सी
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
जीवन
जीवन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
चाय-दोस्ती - कविता
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
क्यों और कैसे हुई विश्व पर्यावरण दिवस मनाने की शुरुआत। क्या है 2023 का थीम ?
Shakil Alam
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
Seema Verma
नारी रखे है पालना l
नारी रखे है पालना l
अरविन्द व्यास
*चार दिवस मेले में घूमे, फिर वापस घर जाना (गीत)*
*चार दिवस मेले में घूमे, फिर वापस घर जाना (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...