Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2023 · 1 min read

चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA

चुप्पी सवर्ण है गुस्सा दलित!
चुप्पी का गुस्से के ऊपर
एक इतिहास है हमलावर होने का !

जीतती रही है सतत चुप्पी
चुप्पी जननी है जबकि गुस्से की!

जननी का जितना
और हारना संतान का
एक द्वंद्वात्मक संबंध सिरजता है
एक अचरज भरी पहेली है यह
कबीर की उलटबांसियों से भी अधिक उलझनकारी
खुसरो की पहेलियों से भी
ज़्यादा अचरजकारी!

Language: Hindi
192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
गर्दिश में सितारा
गर्दिश में सितारा
Shekhar Chandra Mitra
2831. *पूर्णिका*
2831. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🌷🧑‍⚖️हिंदी इन माय इंट्रो🧑‍⚖️⚘️
🌷🧑‍⚖️हिंदी इन माय इंट्रो🧑‍⚖️⚘️
Ms.Ankit Halke jha
काश ये नींद भी तेरी याद के जैसी होती ।
काश ये नींद भी तेरी याद के जैसी होती ।
CA Amit Kumar
बसहा चलल आब संसद भवन
बसहा चलल आब संसद भवन
मनोज कर्ण
"इशारे" कविता
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
""मेरे गुरु की ही कृपा है कि_
Rajesh vyas
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
फिर कभी तुमको बुलाऊं
फिर कभी तुमको बुलाऊं
Shivkumar Bilagrami
हमें यह ज्ञात है, आभास है
हमें यह ज्ञात है, आभास है
DrLakshman Jha Parimal
* कुछ लोग *
* कुछ लोग *
surenderpal vaidya
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
यूं साया बनके चलते दिनों रात कृष्ण है
Ajad Mandori
द्रोपदी फिर.....
द्रोपदी फिर.....
Kavita Chouhan
"यादों के झरोखे से"..
पंकज कुमार कर्ण
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
The_dk_poetry
मेरे वतन मेरे वतन
मेरे वतन मेरे वतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
जगदीश शर्मा सहज
मूडी सावन
मूडी सावन
Sandeep Pande
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
कौन कहता है की ,
कौन कहता है की ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हर रिश्ते में विश्वास रहने दो,
हर रिश्ते में विश्वास रहने दो,
Shubham Pandey (S P)
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Sakshi Tripathi
सच तो हम सभी होते हैं।
सच तो हम सभी होते हैं।
Neeraj Agarwal
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
Bramhastra sahityapedia
विज्ञापन
विज्ञापन
Dr. Kishan tandon kranti
कहते  हैं  रहती  नहीं, उम्र  ढले  पहचान ।
कहते हैं रहती नहीं, उम्र ढले पहचान ।
sushil sarna
कोई उम्मीद किसी से,तुम नहीं करो
कोई उम्मीद किसी से,तुम नहीं करो
gurudeenverma198
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...