Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Nov 2023 · 1 min read

“चुनाव के दौरान नेता गरीबों के घर खाने ही क्यों जाते हैं, गर

“चुनाव के दौरान नेता गरीबों के घर खाने ही क्यों जाते हैं, गरीबों को अपने घर खाने पर क्यों नही बुलाते…संवेदना या सब टी.आर.पी. का खेल है”
©दुष्यंत ‘बाबा’

1 Like · 212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🍁
🍁
Amulyaa Ratan
💐प्रेम कौतुक-439💐
💐प्रेम कौतुक-439💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#2024
#2024
*Author प्रणय प्रभात*
*
*"देश की आत्मा है हिंदी"*
Shashi kala vyas
खोखला वर्तमान
खोखला वर्तमान
Mahender Singh
डूबें अक्सर जो करें,
डूबें अक्सर जो करें,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रंगों  की  बरसात की होली
रंगों की बरसात की होली
Vijay kumar Pandey
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
Kanchan Khanna
"असर"
Dr. Kishan tandon kranti
करम के नांगर  ला भूत जोतय ।
करम के नांगर ला भूत जोतय ।
Lakhan Yadav
2292.पूर्णिका
2292.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चिड़िया!
चिड़िया!
सेजल गोस्वामी
सावन महिना
सावन महिना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पुस्तकें
पुस्तकें
नन्दलाल सुथार "राही"
सम्बन्ध
सम्बन्ध
Shaily
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
मैंने इन आंखों से ज़माने को संभालते देखा है
Phool gufran
If you have believe in you and faith in the divine power .yo
If you have believe in you and faith in the divine power .yo
Nupur Pathak
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
Acharya Rama Nand Mandal
वक्त कितना भी बुरा हो,
वक्त कितना भी बुरा हो,
Dr. Man Mohan Krishna
एक प्यार का नगमा
एक प्यार का नगमा
Basant Bhagawan Roy
कभी कभी प्रतीक्षा
कभी कभी प्रतीक्षा
पूर्वार्थ
ख़्वाब सजाना नहीं है।
ख़्वाब सजाना नहीं है।
Anil "Aadarsh"
*अध्याय 8*
*अध्याय 8*
Ravi Prakash
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मोहब्बत
मोहब्बत
AVINASH (Avi...) MEHRA
कट रही हैं दिन तेरे बिन
कट रही हैं दिन तेरे बिन
Shakil Alam
भीगी फिर थीं भारी रतियाॅं!
भीगी फिर थीं भारी रतियाॅं!
Rashmi Sanjay
Loading...