Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

चुनावी वादा

एक नेता
चुनावी दरिया को
पार करने के लिए
अपनी नाव खे रहे थे
और पतवार जिनके हाथों में थी
भाषण दे रहे थे
भाइयों!
आपकी जो भी परेशानियॉं हैं
विपदाऍं हैं
उन्हें कुछ और दिन झेलिए
नेताजी को
अपना बहुमूल्य वोट देकर
संसद तक ठेलिए
उसके बाद
हम यहीं
इंद्र की परियॉं नचाऍंगे
सोम रस भी लाऍंगे
तब आपको
ना तो काबा की चाहत होगी
और ना ही चाहेंगे काशी
इनके जीतते ही
आपका एरिया बनेगा स्वर्ग
और आप स्वर्गवासी।

1 Like · 225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
View all
You may also like:
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
Neeraj Agarwal
जिंदगी है बहुत अनमोल
जिंदगी है बहुत अनमोल
gurudeenverma198
आहवान
आहवान
नेताम आर सी
3020.*पूर्णिका*
3020.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
घायल तुझे नींद आये न आये
घायल तुझे नींद आये न आये
Ravi Ghayal
सीरिया रानी
सीरिया रानी
Dr. Mulla Adam Ali
पिछले पन्ने भाग 1
पिछले पन्ने भाग 1
Paras Nath Jha
रहता हूँ  ग़ाफ़िल, मख़लूक़ ए ख़ुदा से वफ़ा चाहता हूँ
रहता हूँ ग़ाफ़िल, मख़लूक़ ए ख़ुदा से वफ़ा चाहता हूँ
Mohd Anas
मर्दों वाला काम
मर्दों वाला काम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
संगीत विहीन
संगीत विहीन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
#क़ता (मुक्तक)
#क़ता (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
जीयो
जीयो
Sanjay ' शून्य'
*जाना सबके भाग्य में, कहॉं अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
*जाना सबके भाग्य में, कहॉं अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा तृतीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
डायरी भर गई
डायरी भर गई
Dr. Meenakshi Sharma
"बड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
भारत का अतीत
भारत का अतीत
Anup kanheri
"दुखद यादों की पोटली बनाने से किसका भला है
शेखर सिंह
// जनक छन्द //
// जनक छन्द //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
Anand Kumar
जो द्वार का सांझ दिया तुमको,तुम उस द्वार को छोड़
जो द्वार का सांझ दिया तुमको,तुम उस द्वार को छोड़
पूर्वार्थ
भीगे अरमाॅ॑ भीगी पलकें
भीगे अरमाॅ॑ भीगी पलकें
VINOD CHAUHAN
एक मैं हूँ, जो प्रेम-वियोग में टूट चुका हूँ 💔
एक मैं हूँ, जो प्रेम-वियोग में टूट चुका हूँ 💔
The_dk_poetry
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
पतंग
पतंग
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
Suryakant Dwivedi
Loading...