Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

*चुनावी कुंडलिया*

चुनावी कुंडलिया
________________________
करते दुश्मन प्रार्थना, ढुलमुल हो सरकार (कुंडलिया)
_________________________
करते दुश्मन प्रार्थना, ढुलमुल हो सरकार
साख न भारत की रहे, दिखे सदा लाचार
दिखे सदा लाचार, विश्व षड्यंत्र चलाता
चलता रहता दॉंव, वोटरों को भरमाता
कहते रवि कविराय, दृश्य पर उन्हें अखरते
देख रहे जब लोग, राष्ट्रहित में मत करते
————————–
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
पढ़ाई -लिखाई एक स्त्री के जीवन का वह श्रृंगार है,
पढ़ाई -लिखाई एक स्त्री के जीवन का वह श्रृंगार है,
Aarti sirsat
दिलकश
दिलकश
Vandna Thakur
आँखों का कोना,
आँखों का कोना,
goutam shaw
3178.*पूर्णिका*
3178.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
Dr Parveen Thakur
अनसोई कविता...........
अनसोई कविता...........
sushil sarna
.
.
Ms.Ankit Halke jha
इंसान भी तेरा है
इंसान भी तेरा है
Dr fauzia Naseem shad
अब मेरी मजबूरी देखो
अब मेरी मजबूरी देखो
VINOD CHAUHAN
नज़ारे स्वर्ग के लगते हैं
नज़ारे स्वर्ग के लगते हैं
Neeraj Agarwal
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
नैतिक मूल्यों को बचाए अब कौन
नैतिक मूल्यों को बचाए अब कौन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वन को मत काटो
वन को मत काटो
Buddha Prakash
प्यारा भारत देश हमारा
प्यारा भारत देश हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"वो हसीन खूबसूरत आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
वाह वाह....मिल गई
वाह वाह....मिल गई
Suryakant Dwivedi
काबा जाए कि काशी
काबा जाए कि काशी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कर्मठता के पर्याय : श्री शिव हरि गर्ग
कर्मठता के पर्याय : श्री शिव हरि गर्ग
Ravi Prakash
नहीं-नहीं प्रिये!
नहीं-नहीं प्रिये!
Pratibha Pandey
" मानस मायूस "
Dr Meenu Poonia
परीक्षाएँ आ गईं........अब समय न बिगाड़ें
परीक्षाएँ आ गईं........अब समय न बिगाड़ें
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
"शर्म मुझे आती है खुद पर, आखिर हम क्यों मजदूर हुए"
Anand Kumar
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
🙅कर्नाटक डायरी🙅
🙅कर्नाटक डायरी🙅
*प्रणय प्रभात*
रिश्तों का बदलता स्वरूप
रिश्तों का बदलता स्वरूप
पूर्वार्थ
दो दोहे
दो दोहे
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
रामभक्त संकटमोचक जय हनुमान जय हनुमान
रामभक्त संकटमोचक जय हनुमान जय हनुमान
gurudeenverma198
"चुभती सत्ता "
DrLakshman Jha Parimal
सच तो ये भी है
सच तो ये भी है
शेखर सिंह
Loading...