Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

** चीड़ के प्रसून **

@@@- स्वछंद कविता ——-

गगन घन स्पर्शी
चीड़ के पेड़
दृगों में चित्रित,
कौतुहल से
देखे प्रथम बार
कर रहे थे वृष्टि
आनंदरस की
जिसे संपुट खोलकर
पय कर रहा था,
हृदय मेरा |
गिरि से घिरी
सड़क पर आगे
एक नहीं, दो नही
बिखरे थे अनगिनत
नभ पिंड माणिक्य
अद्भुत प्रसून
“वे चीड़ के प्रसून” |
गिरी वक्ष पर शोभित
रेशम सदृश लघु केश
नरम हरित घास के
जिनमे कुछ प्रसून
पखलिप्त एकाकार
मानो शरीफा हो
सुनहले तृणमूल की दुशाल ओढ़े
छिपते जरा उभरते
अठखेलियाँ करते
कह रहे मुझसे
‘हम यहाँ हैं’
चुन लिए मैंने कुछ
विचित्राकर्षण लुभावने प्रसून
“वे चीड़ के प्रसून” |
अकिंचन स्मरण देव
अवनी, गगन, सृष्टि अभेद
कण, जन, वस्तु लिए निज धर्म
विषम विषम , हैं सभी विशेष
प्रमुदित मन, बिखरा आनंद
गहरा शांत, अति रमणीक
यह ताड़क वन
अद्भुत ईश तेरा हर लेख
होते हैं काठ के भी प्रसून
“वे चीड़ के प्रसून” |
वे चीड़ के प्रसून………………………
– स्वरचित (मौलिक) @@@ लक्ष्मण बिजनौरी (लक्ष्मीकान्त)

1 Like · 96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तलाश है।
तलाश है।
नेताम आर सी
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
Dr Archana Gupta
दशहरा
दशहरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
■ कड़वा सच...
■ कड़वा सच...
*Author प्रणय प्रभात*
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
gurudeenverma198
बगुले तटिनी तीर से,
बगुले तटिनी तीर से,
sushil sarna
Learn self-compassion
Learn self-compassion
पूर्वार्थ
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
वो,
वो,
हिमांशु Kulshrestha
शब्द
शब्द
Ajay Mishra
దీపావళి కాంతులు..
దీపావళి కాంతులు..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
हंस के 2019 वर्ष-अंत में आए दलित विशेषांकों का एक मुआयना / musafir baitha
हंस के 2019 वर्ष-अंत में आए दलित विशेषांकों का एक मुआयना / musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
The_dk_poetry
*अपने जो रूठे हुए, होली के दिन आज (कुंडलिया)*
*अपने जो रूठे हुए, होली के दिन आज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हर दिन के सूर्योदय में
हर दिन के सूर्योदय में
Sangeeta Beniwal
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
शेखर सिंह
गुरु नानक देव जी --
गुरु नानक देव जी --
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नया साल
नया साल
विजय कुमार अग्रवाल
उसकी दोस्ती में
उसकी दोस्ती में
Satish Srijan
mujhe needno se jagaya tha tumne
mujhe needno se jagaya tha tumne
Anand.sharma
*किस्मत में यार नहीं होता*
*किस्मत में यार नहीं होता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नारी
नारी
Acharya Rama Nand Mandal
सोचा होगा
सोचा होगा
संजय कुमार संजू
रेत समुद्र ही रेगिस्तान है और सही राजस्थान यही है।
रेत समुद्र ही रेगिस्तान है और सही राजस्थान यही है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
" भूलने में उसे तो ज़माने लगे "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
अक्ल के दुश्मन
अक्ल के दुश्मन
Shekhar Chandra Mitra
जब से हैं तब से हम
जब से हैं तब से हम
Dr fauzia Naseem shad
हिंदी
हिंदी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
महक कहां बचती है
महक कहां बचती है
Surinder blackpen
Loading...