Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2017 · 2 min read

चिड़िया का घोंसला

“ चिड़िया ” घोंसला छोड़कर आसमान से पार उड़ गई ,हम बस देखते रह गए ,
सूनी हो गई पेड़ की पत्ती-डालें , हम आसमान की ऊंचाईयों को देखते रह गए I

तिनका-2 जोड़कर , लोगों के दिलों को तोड़कर चिड़िया ने “घोंसला” बनाया ,
जब पेड़ में फल-फूल आये तो उसने आसमान से पार अपना ठिकाना बनाया ,
बेदर्दी “ चिड़िया ” तुझे पेड़ ,पत्तियों,डालियों पर क्यों तनिक तरस नहीं आया ?
आंसुओं में भीगी पलकें निहार रही चिड़िया को ,पर तूने सबसे मुंह क्यों फिराया ?

“ चिड़िया ” घोंसला छोड़कर आसमान से पार उड़ गई ,हम बस देखते रह गए ,
सूना हुआ पेड़ का सारा “जहाँ ” हम बस जिंदगी की तेज रफ़्तार देखते रह गए,

चिड़िया ने सुनहरे टूटे पंखों से एक पैगाम हम सब तक पहुँचाया ,
आना- जाना कुदरत का अमिट दस्तूर है , तू क्यों अपने पर इतराता ?
सुंदर गुलिस्ताँ छोडकर तुझे भी एक दिन दूर गगन के पार है जाना ,
इस छोटी जिंदगानी में गूंज जाये जग में, तेरा इंसानियत का तराना I

“ चिड़िया ” घोंसला छोड़कर आसमान से पार उड़ गई ,हम बस देखते रह गए ,
बिखर गई मोतियों की सुंदर माला हम बस टूटे मोती की ओर निहारते रह गए I

“राज” घोंसला छोड़ने से पहले गुलशन में अपनी खुसबू बिखेरते हुए चले ,
इंसानियत के दो फूल “जग के मालिक” के चरणों पर अर्पित करते चले ,
इंसान -2 से प्यार करके “परम पिता ” के सपनों को साकार करते हुए चले ,
उसके जग से प्यार करके अपना जीवन “ मानवता ” के नाम करते हुए चले I

“ चिड़िया ” घोंसला छोड़कर आसमान से पार उड़ गई ,हम बस केवल देखते रह गए ,
आना -जाना जीव का जीवनचक्र है , हम जीवन की गहराइयों को बस देखते रह गए I

देशराज “राज”

1 Like · 1 Comment · 2204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कारकुन
कारकुन
Satish Srijan
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
चंद अशआर - हिज्र
चंद अशआर - हिज्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
लिपटी परछाइयां
लिपटी परछाइयां
Surinder blackpen
तलाश है।
तलाश है।
नेताम आर सी
सच ही सच
सच ही सच
Neeraj Agarwal
छान रहा ब्रह्मांड की,
छान रहा ब्रह्मांड की,
sushil sarna
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
Jyoti Khari
जिस तरह फूल अपनी खुशबू नहीं छोड सकता
जिस तरह फूल अपनी खुशबू नहीं छोड सकता
shabina. Naaz
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
Damini Narayan Singh
"परीक्षा के भूत "
Yogendra Chaturwedi
मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।
मां रिश्तों में सबसे जुदा सी होती है।
Taj Mohammad
सेंगोल की जुबानी आपबिती कहानी ?🌅🇮🇳🕊️💙
सेंगोल की जुबानी आपबिती कहानी ?🌅🇮🇳🕊️💙
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ज्ञानवान  दुर्जन  लगे, करो  न सङ्ग निवास।
ज्ञानवान दुर्जन लगे, करो न सङ्ग निवास।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
■ कटाक्ष
■ कटाक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
"बड़ पीरा हे"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Santosh Khanna (world record holder)
चुनिंदा अश'आर
चुनिंदा अश'आर
Dr fauzia Naseem shad
जय जय राजस्थान
जय जय राजस्थान
Ravi Yadav
“बप्पा रावल” का इतिहास
“बप्पा रावल” का इतिहास
Ajay Shekhavat
लघुकथा-
लघुकथा- "कैंसर" डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
जनता के आवाज
जनता के आवाज
Shekhar Chandra Mitra
माना जीवन लघु बहुत,
माना जीवन लघु बहुत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बदलता चेहरा
बदलता चेहरा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
डॉ. दीपक मेवाती
🌙Chaand Aur Main✨
🌙Chaand Aur Main✨
Srishty Bansal
तुम आशिक़ हो,, जाओ जाकर अपना इश्क़ संभालो ..
तुम आशिक़ हो,, जाओ जाकर अपना इश्क़ संभालो ..
पूर्वार्थ
"अवसाद"
Dr Meenu Poonia
*कहाँ वह बात दुनिया में, जो अपने रामपुर में है【 मुक्तक 】*
*कहाँ वह बात दुनिया में, जो अपने रामपुर में है【 मुक्तक 】*
Ravi Prakash
कब मिलोगी मां.....
कब मिलोगी मां.....
Madhavi Srivastava
Loading...